हिंदी सराय अस्त्राखान वाया येरेवान - पुरुषोत्तम अग्रवाल Hindi Saray Astrakhan Vaya Yerevan - Hindi book by - Purushottam Agrawal
लोगों की राय

यात्रा वृत्तांत >> हिंदी सराय अस्त्राखान वाया येरेवान

हिंदी सराय अस्त्राखान वाया येरेवान

पुरुषोत्तम अग्रवाल

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2013
पृष्ठ :131
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13897
आईएसबीएन :9788126723904

Like this Hindi book 0

..और कई प्रमाणों की तरह अस्त्राखान के हिन्दू व्यापारी भी उस वास्तविकता के प्रमाण हैं, जिस पर ध्यान देने की जरूरत ही नहीं महसूस की जाती ।

...और कई प्रमाणों की तरह अस्त्राखान के हिन्दू व्यापारी भी उस वास्तविकता के प्रमाण हैं, जिस पर ध्यान देने की जरूरत ही नहीं महसूस की जाती । वे ऐसे पात्र हैं जो सैकड़ों सालों से अपने लिए लेखक तलाश रहे हैं । वे हिन्दी सराय में बुला रहे हैं, कोई जाने को तैयार नहीं । अस्त्राखान की हिन्दी सराय की ये आवाजें, यों तो काफी पहले से सुनता रहा था, धुंधली सी यादें बनी हुई थीं । ' डिस्कवरी ऑफ इंडिया ' के अलावा, राहुल जी के ' मध्य एशिया के इतिहास ' में भी अस्त्राखान के व्यापारियों के भारत-संपर्क का उल्लेख है । ' अकथ कहानी प्रेम की ' लिखने के दौरान इन आवाजों की धुंधली यादें तो ताजा हो ही गईं, कुछ और आवाजें भी सुनाई देने लगीं । भारत के साथ- साथ अन्य सभ्यताओं के इतिहासों से भी आती हैं ऐसी आवाजें, जिन्हें औपनिवेशिक इतिहास-दृष्टि के अंधविश्वास दबाते रहे हैं । ऐसी आवाजें मुझे बुलाती रहती हैं, कभी मेक्सिको तो कभी अस्त्राखान । इन्हीं आवाजों को सुनने की उत्सुकता ने, अस्त्राखान में हिन्दी-सराय बनाने वाले, वोल्‍गा किनारे के तातार-बाजार में अपने मकानों और मकामों के अब तक दिखनेवाले निशान छोड़ जानेवाले मुलतानियों, मारवाड़ियों, सिंधियों, गुजरातियों से बात करने की बेचैनी ने ही कराया, मेरा यह सफर हिन्दी सराय- अस्त्राखान वाया येरेवान का...


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book