खिड़की खोल दो - वर्षा दास Khiraki Khol Do - Hindi book by - Varsha Das
लोगों की राय

नाटक-एकाँकी >> खिड़की खोल दो

खिड़की खोल दो

वर्षा दास

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2017
पृष्ठ :120
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13987
आईएसबीएन :9788126729678

Like this Hindi book 0

खिड़की खोल दो' में वर्षा दास के चार नाटक संकलित हैं।

खिड़की खोल दो' में वर्षा दास के चार नाटक संकलित हैं। इन चारों नाटकों में उन्होंने मानव-जीवन को अलग-अलग पहलुओं से समझने का प्रयास किया है। संग्रह का पहला नाटक 'नहीं कभी नहीं' एक स्वतंत्रचेता स्त्री को केन्द्र में रखकर चलता है जिसे नाटक में एक अपेक्षाकृत दुर्बलमना पुरुष के बरक्स उभारा गया है। 'मैं कौन हूँ' दो चोरों की कहानी है जो एक रात चोरी करने निकलते हैं तो इत्तेफाकन उनका सामना जीवन के कुछ ऐसे पक्षों से होता है जो उन्हें अपने बारे में नए सिरे से सोचने पर बाध्य कर देते हैं। आम आदमी की जिन्दगी से जुड़े दु:ख उन्हें बदल देते हैं। 'खिड़की खोल दो' में एक किशोरी अपने परिवार में पहली बार उन परम्पराओं को चुनौती देती है जिन्हें हर परिवार में स्त्री के व्यक्तित्व के दमन के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है और अन्तत: अपनी बात मनवा लेती है। 'सपना' संग्रह का पूर्णकालिक नाटक है जिसमें जीवन के और भी जटिल हालात को उकेरते हुए नाटककार ने एक बड़े सपने की तरफ इशारा किया है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book