कुम्भीपाक - नागार्जुन Kumbhipak - Hindi book by - Nagarjun
लोगों की राय

उपन्यास >> कुम्भीपाक

कुम्भीपाक

नागार्जुन

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 1987
पृष्ठ :139
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 14006
आईएसबीएन :9788126713318

Like this Hindi book 0

कुम्भीपाक नामक नरक की रचना जिन जीवन-स्थितियों से हुई होगी, नागार्जुन का यह उपन्यास उन्हीं के शब्दांकन का परिणाम है।

कुम्भीपाक नामक नरक की रचना जिन जीवन-स्थितियों से हुई होगी, नागार्जुन का यह उपन्यास उन्हीं के शब्दांकन का परिणाम है। एक ही मकान में रहनेवाले छः किरायेदारो की जीवनचर्या पर केन्द्रित यह उपन्यास हमारे 'विकासमान' नागर-जीवन के जिस सामाजिक यथार्थ की परतें खोलता है, प्रकारांतर से वह समूचे भारतीय जीवन का यथार्थ है, क्योंकि स्त्री के प्रति पदार्थवादी नजरिये की कहीं कोई कमी नहीं। आर्थिक अभावों में पिसती अनेकानेक निर्दोष जिवानेच्छाएं किस प्रकार भोगवाद की भट्टी में झोंक दी जाती हैं, उनकी पीड़ा और मुक्तिकामी छटपटाहट को नागार्जुन ने गहरी आत्मीयता से उकेरा है। साथ ही, नागार्जुन यहाँ उस दृष्टि को प्रस्थापित करते हैं जो स्त्री की सामाजिक भूमिका और मानवीय गरिमा के प्रति सचेत है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book