मध्य भारत के पहाड़ी इलाके - कैप्टन जे. फोरसिथ Madhya Bharat Ke Pahaadi Elake - Hindi book by - Capt. J. Forsith
लोगों की राय

सामाजिक विमर्श >> मध्य भारत के पहाड़ी इलाके

मध्य भारत के पहाड़ी इलाके

कैप्टन जे. फोरसिथ

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :296
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14019
आईएसबीएन :9788126715947

Like this Hindi book 0

प्रकृति-प्रेमियों, पर्यटकों तथा शोधकर्त्ताओं के लिए एक बेहद जरूरी पुस्तक।

मध्यभारत के पहाड़ी इलाके पुस्तक मध्यभारत के उन पहाड़ी और मैदानी इलाकों से हमारा साक्षात्कार कराती है जहाँ आदिवासियों की गहरी पैठ रही है। पुस्तक हमें बताती है कि आमतौर पर लोग भारत के ‘पहाड़ी’ और ‘मैदानी’ इलाकों की ही बात करते हैं। पहाड़ी इलाके से उनका अभिप्राय होता है मात्र हिमालय पर्वत शृंखला तथा मैदानी इलाके यानि बाकी देश। पृथ्वी पर बड़े-बड़े पर्वतों, जिन्हें ‘पहाड़’ से ज्यादा कुछ नहीं कहा जाता, और तथाकथित ‘मैदानी’ इलाकों के बीच जो बहुत-सी जमीन पड़ी है, उसके लिए कोई निर्दिष्ट भौगोलिक नाम नहीं है। प्रायद्वीप के दक्षिण में नीलगिरि नाम की पर्वत शृंखला है, जिसकी ऊँचाई 9000 फीट है, लेकिन भारत से बाहर और भारत में भी इसे ऐसे इलाके के रूप में बहुत कम लोग जानते हैं, जो बीमार लोगों का आश्रय स्थल और विताप (जिसकी छाल से कुनैन बनती है) की नर्सरी है। यह पुस्तक हमें उन स्थानों का भी भ्रमण कराती है जहाँ पहुँचना मनुष्य के लिए लगभग दुष्कर है। इसमें नर्मदा घाटी, महादेव पर्वत, मूल जनजातियों, संत लिंगों का अवतरण, सागौन क्षेत्र, शेर, उच्चतर नर्मदा, साल वन, आदि का भी विस्तार से वर्णन हुआ है। प्रकृति-प्रेमियों, पर्यटकों तथा शोधकर्त्ताओं के लिए एक बेहद जरूरी पुस्तक।

लोगों की राय

No reviews for this book