परिमल - सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला Parimal - Hindi book by - Suryakant Tripathi Nirala
लोगों की राय

कविता संग्रह >> परिमल

परिमल

सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :205
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14123
आईएसबीएन :9788126705092

Like this Hindi book 0

महाकवि ‘निराला’ की युगांतरकारी कविताओं का अति विशिष्ट और सुविख्यात संग्रह है-परिमल।

महाकवि ‘निराला’ की युगांतरकारी कविताओं का अति विशिष्ट और सुविख्यात संग्रह है-परिमल। इसी में है तुम और मैं, तरंगो के प्रति, ध्वनि, विधवा, भिक्षुक, संध्या-सुन्दरी, जूही की कलि, बदल-राग, जागो फिर एक बार-जैसी श्रेष्ठ कविताएँ, जो समय के वृक्ष पर अपनी अमिट लकीर खिंच चुकी हैं। परिमल में छाया-युग और प्रगति-युग अपनी सीमाएँ भूलकर मनो परस्पर एकाकार हो गए हैं। इसमें दो-दो काव्य-युगों की गंगा-जमनी छटा है, दो-दो भावधाराओं का सहजमुक्त विलास है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book