संसार कायरों के लिए नहीं - रमेश पोखरियाल निशंक Sansar Kayaron ke Liye Nahin - Hindi book by - Ramesh Pokhriyal Nishank
लोगों की राय

प्रबंधन >> संसार कायरों के लिए नहीं

संसार कायरों के लिए नहीं

रमेश पोखरियाल निशंक

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2013
पृष्ठ :191
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14258
आईएसबीएन :9788126725984

Like this Hindi book 0

यह पुस्तक स्वामी विवेकानन्द के विचारों, आदर्शों एवं सन्देशों पर आधारित है।

स्वामी विवेकानन्द 'योद्धा संन्यासी' थे। करुणा, निर्भयता, कर्मठता, ज्ञान और सेवा आदि महत्तर गुणों से विभूषित उनका जीवन प्रेरणा का महाग्रन्थ है। कठिन से कठिन परिस्थिति का सामना करने और उससे विजयी होकर निकलने का आदर्श स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाओं का सार है। स्वामी जी ने अपनी अमृत वाणी से पूरे विश्व को नवजीवन का सन्देश दिया था। वे व्यावहारिक वेदान्त के अग्रणी व्यक्तित्व थे। उनके जीवन और कृतित्व में एक विराट सत्ता के प्रति आस्था तो है ही, साथ ही मनुष्य को निर्भय और कर्मठ बनाने की प्रेरणा भी है। संसार कायरों के लिए नहीं एक विलक्षण और प्रासंगिक पुस्तक है। आज जटिल होते समय और समाज में जीने के लिए व्यक्ति को अपने जीवन का नियोजन करना होता है। यह कठिन कार्य है, इसे स्वामी विवेकानन्द के सन्देश और विचार सुगम बनाते हैं। यह पुस्तक स्वामी विवेकानन्द के विचारों, आदर्शों एवं सन्देशों पर आधारित है। जीवन जीने की कला पर प्रकाश डालते हुए स्वामी जी विश्व मानवता के प्रति अपार करुणा से भर जाते हैं। सहृदय साहित्यकार डॉ. रमेश पोखरियाल 'निशंकÓ ने स्वामी विवेकानन्द के विपुल साहित्य से वे सूत्र चुने हैं जो समय और समाज को एक नई दिशा देते हैं। इस पुस्तक को पढ़कर किसी भी व्यक्ति के मन में जीवन को सार्थक बनाने की ललक जाग उठेगी।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book