सोबती एक सोहबत - कृष्णा सोबती Sobti Ek Sohbat - Hindi book by - Krishna Sobti
लोगों की राय

संस्मरण >> सोबती एक सोहबत

सोबती एक सोहबत

कृष्णा सोबती

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :412
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14298
आईएसबीएन :9788171788361

Like this Hindi book 0

यह कृति उनके बहुचर्चित कथा-साहित्य, संस्मरणों, रेखाचित्रों, साक्षात्कारों और कविताओं से एक चयन है।

हिंदी साहित्य के समकालीन परिदृश्य पर कृष्णा सोबती एक विशिष्ट रचनाकार के रूप में समादृत हैं। यह कृति उनके बहुचर्चित कथा-साहित्य, संस्मरणों, रेखाचित्रों, साक्षात्कारों और कविताओं से एक चयन है। उनके कुछ विचारोत्तेजक निबंधों को भी इसमें रखा गया है। इसके साथ ही 'जिंदगीनामा 2 ' से कुछ महत्त्वपूर्ण अंश भी इसमें शामिल हैं, जिसे वे अभी लिख रही हैं। उल्लेखनीय है कि अपनी विभिन्न कथाकृतियों के माध्यम से कृष्णा सोबती ने संस्कृति, संवेदना और भाषा-शिल्प की दृष्टि से हिंदी साहित्य को एक नई व्यापकता प्रदान की है। इस संदर्भ में उनकी इस मान्यता से सहमत हुआ जा सकता है कि हिंदी अगर किसी प्रदेश-विशेष या धर्म-वर्ग की भाषा नहीं है तो उसे अपने संस्कार को व्यापक बनाना होगा। वस्तुत: उन्होंने बने-बनाए साँचे, चौखटे और चौहद्‌दियाँ हर स्तर पर अस्वीकार की हैं त था रचना के साथ-साथ स्वयं भी एक नया जन्म लिया है। उनके लिए रचनाकार की ही तरह रचना भी एक जीवित सच्चाई है; उसकी भी एक स्वायत्तता है। उन्हीं के शब्दों में कहें तो 'रचना न बाहर की प्रेरणा से उपजती है, न केवल रचनाकार के मानसिक दबाव और तनाव से। रचना और रचनाकार-दोनों अपनी-अपनी स्वतंत्र सत्ता में एक-दूसरे का अतिक्रमण करते हैं और एक हो जाते हैं। इसी के साथ लेखक पर रचना की शर्तें लागू हो जाती हैं और रचना पर लेखकीय संयम और अनुशासन।' कहना न होगा कि यह एक ऐसी कृति है जो न सिर्फ एक लेखक की बहुआयामी रचनाशीलता को समझने का अवसर जुटाती है बल्कि समकालीन रचनात्मकता से जुड़े अनेक सवालों को भी हमारी चिंताओं में शामिल करती है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book