स्वातंत्रयोत्तर हिंदी के विकास में 'कल्पना' के दो दशक - शशिप्रकाश चौधरी Swatantryottar Hindi ke Vikas Mein 'Kalpana' Ke Do - Hindi book by - Shashiprakash Choudhary
लोगों की राय

पत्र एवं पत्रकारिता >> स्वातंत्रयोत्तर हिंदी के विकास में 'कल्पना' के दो दशक

स्वातंत्रयोत्तर हिंदी के विकास में 'कल्पना' के दो दशक

शशिप्रकाश चौधरी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2013
पृष्ठ :224
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14322
आईएसबीएन :9788126724970

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत अनुसंधान 'कल्पना' के सन् 1949 से 1969 तक के अंकों पर आधारित है।

अब यह बात मानी जाने लगी है कि हिन्दी साहित्य की बीसवीं सदी का आत्म-संघर्ष उस काल की पत्र-पत्रिकाओं में दबा पड़ा है। इसका मतलब यह है कि इस सदी के साहित्येतिहास की समग्र-समुचित तस्वीर तभी सम्भव है जब प्रत्येक दशक की प्रतिनिधि पत्रिकाओं की सामग्रियों का मूल्यांकन हो। इस प्राथमिक प्रक्रिया के बाद ही बीसवीें सदी के हिन्दी सााहित्य के वास्तविक इतिहास का निर्माण सम्भव हो पाएगा। जब तक हम पहले-दूसरे दशक की 'सरस्वती' एवं 'मर्यादा' को; तीसरे दशक के 'मतवाला', 'माधुरी' एवं 'सुधा' को; चौथे दशक के 'हंस' को; पाँचवें दशक के 'प्रतीक' एवं छठे-सातवें दशक की 'कल्पना' को धुरी मानकर नहीं चलेंगे तब तक हिन्दी साहित्य का वास्तविक इतिहास नहीं लिखा जा सकता है। प्रस्तुत अनुसंधान 'कल्पना' के सन् 1949 से 1969 तक के अंकों पर आधारित है। सन् 1950 में जिस स्वप्निल लोकतन्त्र की आधारशिला रखी जाती है वह सन् 1969 तक आते-आते मोहभंग के अँधियारे से घिर जाता है। सन् 1969 एक नये भ्रमयुग की शुरुआत है। प्रगतिशील दावों और नारों के साथ इंदिरा गांधी की राजनीतिक यात्रा शुरू होती है। इंडिकेट और सिंडिकेट के संघर्ष में बूढ़ों का दल पराजित होता है। कहना नहीं होगा कि 'कल्पना' के बीस सालों का अध्ययन सपने की सुरमई घाटी से गुजरना भी है। हालाँकि इस सपने से मुक्ति तो सन् बासठ के बाद से ही मिल जाती है लेकिन उनहत्तर तक उस सपने की लम्बी होती छाया से मुक्ति नहीं मिलती। इसलिए उनहत्तर के बाद की 'कल्पना' में वह ऊष्मा और आस्था नहीं है जो पचास के बाद की 'कल्पना' में है। सन् 1969 के बाद 'कल्पना' फिर पहले जैसी हो नहीं सकती थी, क्योंकि समय बदल गया था। अड़तालीस के बाद बीस बरसों में हिन्दी साहित्य, भारतीय मनुष्य, उसकी अस्मिता और संघर्ष, उसके जीवन के प्रकाश और अँधेरे, उनके परिवर्तन और नैतिक चिन्ताओं, उसके सपनों और सच्चाइयों का साक्ष्य है 'कल्पना'।

लोगों की राय

No reviews for this book