तहँ तहँ भ्रष्टाचार - सतीश अग्निहोत्री Tanh Tanh Bhrashtachar - Hindi book by - Satish Agnihotri
लोगों की राय

हास्य-व्यंग्य >> तहँ तहँ भ्रष्टाचार

तहँ तहँ भ्रष्टाचार

सतीश अग्निहोत्री

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :144
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14325
आईएसबीएन :9788126726073

Like this Hindi book 0

'तहँ तहँ भ्रष्टाचार' व्यंग्य-संग्रह में सतीश अग्निहोत्री ने समकालीन समाज की अनेक विसंगतियों पर प्रहार किया है।

हिन्दी साहित्य में व्यंग्य लेखन की अनेक प्रविधियाँ और छवियाँ विद्यमान हैं। सबका लक्ष्य एक ही है—उन प्रवृत्तियों, व्यक्तियों व स्थितियों का व्यंजक वर्णन जो विभिन्न विसंगतियों के मूल में हैं। 'तहँ तहँ भ्रष्टाचार' व्यंग्य-संग्रह में सतीश अग्निहोत्री ने समकालीन समाज की अनेक विसंगतियों पर प्रहार किया है। फैंटेसी का आश्रय लेते हुए लेखक ने राजनीति के गर्भ से उपजी विभिन्न समस्याओं का विश्लेषण किया है। ज्ञान चतुर्वेदी के शब्दों में, 'सतीश अग्निहोत्री के इस व्यंग्य संग्रह की अधिकांश रचनाओं में यह व्यंग्य-कौशल बेहद मेच्योरली बरता गया दिखता है। व्यंग्य के उनके विषय तो नए हैं ही, उनको पौराणिक तथा लोक गल्पों से जोडऩे की उनकी शैली भी बेहद आकर्षक है। आप मजे-मजे से सब कुछ पढ़ जाते हैं और फैंटेसी में बुने जा रहे व्यंग्य की डिजाइन को लगातार समझ भी पाते हैं।' व्यंग्यकार के लिए जरूरी है कि उसके पास सन्दर्भों की प्रचुरता हो। वह विभिन्न प्रसंगों को वर्णन के अनुकूल बनाकर अपने मंतव्य को विस्तार प्रदान करे। सतीश अग्निहोत्री केवल पौराणिक व लोक प्रचलित सन्दर्भों से ही परिचित नहीं, वे आधुनिक विश्व की विभिन्न उल्लेखनीय घटनाओं का मर्म भी जानते हैं। पौराणिक वृत्तान्त में लेखक अपने निष्कर्षों के लिए स्पेस की युक्ति निकाल लेता है। 'एक ब्रेन ड्रेन की कहानी' के वाक्य हैं, 'कार्तिकेय मेधावी थे, पर तिकड़मी नहीं। इस देश को रास्ता बनाने वाले इंजीनियरों की जरूरत नहीं है, केवल पैसा खर्च करने वाले इंजीनियरों की है।' यह व्यंग्य-संग्रह प्रमुदित करने के साथ प्रबुद्ध भी बनाता है, यही इसकी सार्थकता है।

लोगों की राय

No reviews for this book