तुम्हारे लिए - दूधनाथ सिंह Tumhare Liye - Hindi book by - Doodhnath Singh
लोगों की राय

कविता संग्रह >> तुम्हारे लिए

तुम्हारे लिए

दूधनाथ सिंह

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :100
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14346
आईएसबीएन :9788126726035

Like this Hindi book 0

तुम्हारे लिए' दूधनाथ सिंह की 71 प्रेम कविताओं का संग्रह है।

दूधनाथ सिंह जीवन और शब्द के पारखी रचनाकार हैं। उपन्यास, कहानी, नाटक, कविता, आलोचना व संस्मरण विधाओं में व्याप्त उनके रचना-संसार से गुज़रते हुए अनुभव किया जा सकता है कि अर्थ की सहज स्वीकृतियाँ अपना चोला बदल रही हैं। 'तुम्हारे लिए' दूधनाथ सिंह की 71 प्रेम कविताओं का संग्रह है। प्रेम के अन्त:करण का आयतन यहाँ विस्तृत हुआ है। इनमें जीवन को साक्षी भाव से देखने की उत्सुकता है। तथ्य निर्भार हो गए हैं और वृत्तान्त विलुप्त। निराला ने लिखा था, 'मौन मधु हो जाय/भाषा मूकता की आड़ में मन सरलता की बाढ़ में जल बिन्दु सा बह जाय।' जीवन के पार जाकर जीवन की धारा में बहने और उसे कहने का गुण 'तुम्हारे लिए' संग्रह की सर्वोपरि विशेषता है। प्रेम की परिधि में यदि जीवन है तो मृत्यु भी...जाने की उदासी है तो लौटने की उत्कंठा भी...क्षण की उपस्थिति है तो समयातीत से संवाद भी—'अभी देखा/फिर/युगों के कठिन दुस्तर आवरण के पार तुमको अभी देखा।' उल्लेखनीय यह है कि ये कविताएँ दूधनाथ सिंह के परिचित मुहावरे से विलग हैं। कई बार इन्हें पढ़ते हुए लगता है कि अपार अकेलेपन में अस्तित्व की पदचाप सुनाई पड़ रही है। 'स्त्री' इन कविताओं मेें कई तरह से आती है...और हर बार अनूठेपन के साथ। इन कविताओं में शिल्प के कुछ खास प्रयोग हैं जो शब्दों और पंक्तियों के बीच भावबोध के लिए थोड़ी अनन्य जगह बनाते हैं। 'तुम्हारे लिए' में मौलिकता की सुखद छवियाँ हैं : 'वह जो जीवन मैंने देखा किसने देखा! वह जो सुख-दुख मैंने पाया तुमने पाया?'


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book