विज्ञान जनतंत्र और इस्लाम - हुमायूँ कबीर Vigyan Jantantra Aur Islam - Hindi book by - Humayu Kabeer
लोगों की राय

लेख-निबंध >> विज्ञान जनतंत्र और इस्लाम

विज्ञान जनतंत्र और इस्लाम

हुमायूँ कबीर

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2003
पृष्ठ :139
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14379
आईएसबीएन :812670697x

Like this Hindi book 0

संसार का इस्लाम से परिचय कराने वाले पैगम्बर मोहम्मद माने जाते हैं।

संसार का इस्लाम से परिचय कराने वाले पैगम्बर मोहम्मद माने जाते हैं। उनका पूरा जीवन सत्य, निष्ठा का सही पैमाना रहा है। उन्होंने जीवन को तर्कों के आधार पर जीने की सलाह दी। उनका मानना था कि धर्म प्राधिकार पर आधारित न होकर तर्क पर आधारित हो। ‘विज्ञान, जनतंत्र और इस्लाम’ में इन्हीं बिन्दुओं पर विमर्श है। इस्लाम ने श्रद्धाजनित चमत्कारों का निषेध किया, एकेश्वरवाद पर जोर उसके वैज्ञानिक दृष्टिकोण का आधार है। मनुष्य–मनुष्य में कोई भेद इस्लाम में नहीं है। सामान्य रूप से यह उसके लोकतांत्रिक मिजाज की भी बुनियाद है। जनतंत्र की अवधारणा, मनुष्य के अधिकार, कल्याणराज्य, स्वाधीनता, प्राधिकार और कल्पना, दर्शनशास्त्र का अध्ययन, भारत में शिक्षा की समस्याएँ तथा महात्मा गांधी के विचार–व्यवहार का सम्यक् आकलन प्रसिद्ध चिन्तक तथा राजनेता हुमायूँ कबीर ने इस पुस्तक में किया है।

लोगों की राय

No reviews for this book