वांग्चू - भीष्म साहनी Wangchoo - Hindi book by - Bhishm Sahni
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> वांग्चू

वांग्चू

भीष्म साहनी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 14393
आईएसबीएन :9788126705382

Like this Hindi book 0

वाङ्चू सुख्यात कथाकार भीष्म साहनी की ग्यारह कहानियों का संग्रह है।

वाङ्चू सुख्यात कथाकार भीष्म साहनी की ग्यारह कहानियों का संग्रह है। इन कहानियों में सोद्देश्यतानिर्वहन के साथ-साथ हृदयग्राही अन्तरंगता और रसमयता दर्शनीय है। इन्हें व्यापक सामाजिक परिप्रेक्ष्य में लिखा गया है, किन्तु जीवन-सन्दर्भों के चयन में विविधता रखी गई है जिससे रोचकता और प्रभाव में वृद्धि हुई है। इस प्रसंग में संग्रह की एक कहानी ‘वाङ्चू’ - जिसके आधार पर पुस्तक का नामकरण हुआ है - और दूसरी कहानी ‘राधा-अनुराधा’ को ले सकते हैं। पहली में एक विस्थापित चीनी मानस की निरीहता का चित्रण है तो दूसरी, अभावों और यातनाओं में पली एक निम्नवर्गीय किशोरी नायिका के रोमांस की करुण उच्छ्वास-कथा है। ‘ओ हरामजादे’ शीर्षक व्यंग्यात्मक है, किन्तु कहानी प्रवासी भारतीय मानस की पीड़ा की परतों को खोलती है। इसी तरह और-और कहानियाँ मन पर अलग-अलग प्रभाव छोड़ती हैं तथा आज के सामाजिक जीवन की विषमताओं को रेखांकित करती हैं।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book