राम जियावन बाँच रहे हैं - शैलेन्द्र शर्मा Ram Jiyavan Banch Rahe hain - Hindi book by - Shailendra Sharma
लोगों की राय

कविता संग्रह >> राम जियावन बाँच रहे हैं

राम जियावन बाँच रहे हैं

शैलेन्द्र शर्मा

प्रकाशक : ज्ञानोदय प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2018
पृष्ठ :104
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 16061
आईएसबीएन :978-93-85812-84-2

Like this Hindi book 0

कविता संग्रह

 

 

 

 

 

 

अपनी ही बोयी व्यथा, काट रहे हैं लोग
पर कहते बिधि ने लिखा, यह कैसा दुर्योग.

- शैलेन्द्र शर्मा

 

 

 

प्रथम पृष्ठ

    अनुक्रम

  1. आम आदमी की आवाज

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book