Jhaansaa - Hindi book by - Surendra Mohan Pathak - झांसा - सुरेन्द्र मोहन पाठक
लोगों की राय

उपन्यास >> झांसा

झांसा

सुरेन्द्र मोहन पाठक

प्रकाशक : मनोज पब्लिकेशन प्रकाशित वर्ष : 2002
पृष्ठ :212
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 16319
आईएसबीएन :000000000

Like this Hindi book 0

सुनील सीरीज का नवीनतम उपन्यास

सुरेन्द्रमोहन पाठक
की कलम से
सुनील सीरीज
का नवीनतम उपन्यास

झांसा

रणजीत महाजन एक बीमार, उम्रदराज शख्स था जिसकी चन्द और मजबूरियों से फायदा उठा कर उसके दुश्मन उसका सब कुछ हड़प जाना चाहते थे। ऐसे शख्स की बची खुची जिन्दगी की कमान उसके एक खैरख्वाह दोस्त ने आकर अपने हाथ न ली होती तो उसके दुश्मन उसको बर्बाद करने के, बल्कि खत्म करने के अपने वन प्वायन्ट प्रोग्राम में यकीनन कामयाब हो गये होते। अब वो जिन्दा रह कर अपने दुश्मनों के लिये दुश्वारियां खड़ी कर रहा था।

क्या वो जिन्दा रह सका?

एक अत्यन्त रोमांचक मर्डर मिस्ट्री

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book