Kirchiyan - Hindi book by - Ashapurna Devi - किर्चियाँ - आशापूर्णा देवी
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> किर्चियाँ

किर्चियाँ

आशापूर्णा देवी

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2007
पृष्ठ :267
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 18
आईएसबीएन :8126313927

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

3465 पाठक हैं

ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित कहानी संग्रह



अभिनेत्री

सहन के बीचोंबीच गलीचे का आसन बिछाकर आठ-दस कटोरियाँ और बड़ा-सा थाल सजाकर भोजन परोसा गया है। दामाद की खातिर नहीं, समधी के लिए।

नयी बहू के पिता विलायत से पधारे हैं। घर की मालकिन शायद बहुत लजीली हैं, इसीलिए मेहमान की मेजबानी का भार बहू पर ही है। योग्य अधिकारी के हाथों में यह अधिकार नहीं दिया गया, ऐसी बात नहीं। नयी बहू अभी कच्ची उमर की है तो क्या, तीन लोगों के खाने लायक सामान एक ही आदमी को भेंट करने के लिए जिस अध्यवसाय की जरूरत है, उसमें तो वह नहीं।

ससुराल में तो बाप-भाई सभी अतिथि जैसे ही हैं, इसलिए पिता पर अधिक भोजन के लिए अनुपमा दबाव क्यों न डाले?

पिता ने हँसते हुए कहा, ''देखता हूँ तुम तो पूरी गृहस्थन बन गयी हो। मेरे साथ भी रिश्तेदारी? भला इतना कभी मैं खाता हूँ?''

नहीं! यह बात क्या अनुपमा नहीं जानती? लेकिन जोर डालने का रिवाज जो ठहरा। इसके अलावा सास सामने न होने पर भी किसी कोने-कतरे में जरूर खड़ी होगी और बाद में बहू की खोट निकालेगी। इसीलिए अनुपमा ने उत्साह से कहा, ''अगर मछली-वछली न खा सको, तो रहने दो। मिठाइयाँ और खीर तो खाओगे। यह सन्देश इनके गाँव से मँगाया गया है। इसे छोड़ देने पर मैं बुरा मान जाऊँगी...कोई बहाना नहीं चलेगा।''

''नहीं चलेगा, तो तुम ही बैठी-बैठी खाओ।'' यह कहकर पिता हँसते हुए उठ गये। भोजन की बर्बादी के बारे में उन्होंने कोई भाषण नहीं दिया।

साल और तारीख के हिसाब से बात बहुत पहले की है। बर्बादी के डर से थोड़े भोजन का आयोजन उन दिनों निन्दनीय था। एक आदमी को खाने के लिए बैठाकर एक ही आदमी के लायक परोसना-भला यह कैसे हो सकता था? अगर जूठन ही न फेंकी गयी...तो आदर ही क्या दिखाया? खाने की चीजों पर ममत्व तो मानसिक दरिद्रता ही हुई।

कल्पना-लोक में ऊँची उड़ान भरने वाले लोगों ने भी उस समय राशन के

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book