आत्म चिन्तन की कला - स्वामी चिन्मयानंद Aatma Chintan ki Kala - Hindi book by - Swami Chinmayanand
लोगों की राय

चिन्मय मिशन साहित्य >> आत्म चिन्तन की कला

आत्म चिन्तन की कला

स्वामी चिन्मयानंद

प्रकाशक : सेन्ट्रल चिन्मय मिशन ट्रस्ट प्रकाशित वर्ष : 2002
पृष्ठ :39
मुखपृष्ठ :
पुस्तक क्रमांक : 1829
आईएसबीएन :00000

Like this Hindi book 4 पाठकों को प्रिय

151 पाठक हैं

प्रस्तुत है आत्म चिन्तन की कला..

प्रस्तुत पुस्तक आत्म चिन्तन की कला में स्वामी चिन्मयानंद ने उपर्युक्त सभी प्रश्नों का सटीक उत्तर दिया है वे छः सरल सोपान प्रस्तुत करते हैं जिनका नियमित अभ्यास किया जाना चाहिए। हमारे मन के उस पार क्या है-यह खोज ही आध्यात्मिक खोज है। और दिव्य परमानन्द की सम्यक् सूखद अनुभूति ही जीवन का लक्ष्य है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book