दे ताली - वीरेन्द्र जैन De Tali - Hindi book by - Virendra Jain
लोगों की राय

पत्र एवं पत्रकारिता >> दे ताली

दे ताली

वीरेन्द्र जैन

प्रकाशक : वाणी प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2003
पृष्ठ :135
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 2897
आईएसबीएन :81-8143-090-5

Like this Hindi book 6 पाठकों को प्रिय

197 पाठक हैं

हिन्दी की साहित्यिक पत्रकारिता का आज के समय क्या दायित्व है और इस का क्या प्रभाव पड़ रहा है...

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book