इनसान का बेटा - अलका पाठक Insan Ka Beta - Hindi book by - Alka Paathak
लोगों की राय

चिल्ड्रन बुक ट्रस्ट >> इनसान का बेटा

इनसान का बेटा

अलका पाठक

प्रकाशक : सी.बी.टी. प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2005
पृष्ठ :32
मुखपृष्ठ :
पुस्तक क्रमांक : 3862
आईएसबीएन :81-7011-828-x

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

266 पाठक हैं

इसमें इनसान के बेटे का उल्लेख किया गया है....

बाबू है तो छोटा-सा, पर उसके दिमाग में हैं अनगिनत प्रश्न। इनके उत्तर खोजते हुए वह कभी रहस्यमय रूप से ऑटोमेटिक हो जाता है तो कभी नाखून के बराबर नन्हा। कहां मिलते हैं उसे ट्रैफिक जाम में फँसे अकबर-बीरबल कैसे पहुंचा वह अनूठे किले में और क्या पाया उसने...फिर..क्या चंदा, क्या सूरज, सब बाबू से डरकर दुबक क्यों जाते हैं।

लोगों की राय

No reviews for this book