मंत्र-तंत्र - हजारी प्रसाद द्विवेदी Mantra-Tantra - Hindi book by - Hazari Prasad Dwivedi
लोगों की राय

नेहरू बाल पुस्तकालय >> मंत्र-तंत्र

मंत्र-तंत्र

हजारी प्रसाद द्विवेदी

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया प्रकाशित वर्ष : 2005
पृष्ठ :32
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 4401
आईएसबीएन :81-237-0624-3

Like this Hindi book 6 पाठकों को प्रिय

67 पाठक हैं

हजारीप्रसाद द्विवेदी की कहानियों का संग्रह....

हजारी प्रसाद द्विवेदी की कहानियाँ

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी (1907-1970) की साहित्यिक कृतियों से सभी परिचित हैं। लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि उन्होंने बच्चों के लिए भी कहानियाँ लिखी हैं। नेशनल बुक ट्रस्ट ने आचार्य द्विवेदी की बोलपयोगी कहानियों के इस संग्रह को प्रकाशित करने का निर्णय लिया ताकि बच्चे उनकी लेखनी से भी परिचित हो सकें।

किसी एक गांव में एक ब्राह्मण रहा करते थे। ये एक बहुत करामाती मंत्र जानते थे। मंत्र का गुण यह था कि एक विशेष प्रकार का नक्षत्रयोग आने पर जब उसका प्रयोग किया जाता तो आकाश से नाना प्रकार के रत्न और धन की वर्षा होने लगती थी। उस ब्राह्मण के पास एक बड़े बुद्धिमान विद्यार्थी पढ़ते थे।

एक दिन एक काम से ब्राह्मण उस विद्यार्थी को लेकर घर से बाहर हुए। कुछ दूर जाने पर वे एक घने जंगल में आ पड़े। इस जंगल में पांच सौ डाकू रहते थे। राहियों के आते ही उनका माल-असबाब लूल लेते उस ब्राह्मण और विद्यार्थी की भी यही दशा हुई। डाकुओं ने उन्हें बांध लिया।

राहगीरों के पास सदा रुपया-पैसा नहीं रहा करता था। फिर भी डाकू उनको नहीं छोड़ते थे। वे एक को बांधकर दूसरे से कहते कि ‘जाओ, यदि हो सके तो रुपये ले आकर इसे छुड़ा ले जाओ।’ यदि बाप-बेटे को कभी पकड़ पाते, तो लड़के को बांधकर रख लेते औऱ बाप रुपया ले आने को भेजते।

यदि मां-बेटी को पकड़ते, तो बेटी को रखकर मां को रुपया ले आने को कहते। इसी तरह दो भाइयों को पकड़ते तो छोटे को रखकर बड़े को भेजते और गुरु-चेला को पकड़ने पर गुरु को रखकर चेले को भेजते। इसी के अनुसार उन्होंने ब्राह्मण को पकड़ रखा और शिष्य को रुपया-पैसा ले आने के लिए भेज दिया।

जाते समय शिष्य ने गुरु को नमस्कार करके कहा, ‘‘मैं दो-एक दिन के भीतर ही लौटूंगा, आप डरिएगा मत। किंतु एक काम आपको करना होगा। आपको मैं सावधान किये जाता हूं, आज धनवर्षण का योग है, ऐसा न हो कि आप दुःख से कातर होकर धनवर्षा करें। यदि करेंगे तो आप खुद भी मरेंगे और ये पांच सौ डाकू भी मरेंगे।’’ शिष्य ऐसा कहकर रुपये के लिए घर की ओर चले।

  1. धनवर्षण
  2. देवता की मनौती
  3. प्रतिशोध
  4. बड़ा कौन है?
  5. बड़ा क्या है?
  6. तंत्र मंत्र

आगे....

प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

विनामूल्य पूर्वावलोकन

Prev
Next
Prev
Next

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book