भारी बस्ता - उषा यादव Bhari Basta - Hindi book by - Usha Yadav
लोगों की राय

नाटक एवं कविताएं >> भारी बस्ता

भारी बस्ता

उषा यादव

प्रकाशक : आत्माराम एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2000
पृष्ठ :32
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 4504
आईएसबीएन :81-7043-476-9

Like this Hindi book 6 पाठकों को प्रिय

117 पाठक हैं

इसमें बाल कविताओं का वर्णन किया गया है........

Bhari Basta-A Hindi Book by Usha Yadav - भारी बस्ता - उषा यादव

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

पइयाँ–पइयाँ चल

पइयाँ-पइयाँ चल, बुलू पइयाँ-पइयाँ चल !
गोदी के लिए गुडिया रानी न मचल ।
पइयाँ-पइयाँ चल, बुलू पइयाँ-पइयाँ चल !
दूर घोड़ा पड़ा हुआ उसे उठा ला।
ऊँ-ऊँ करके रो रहा, बो भालू काला।
आज चलाना सीख ले, दौड़ेगी तू कल।
पइयाँ-पइयाँ चल, बुलू पइयाँ-पइयाँ चल।
एक डग, दो डग, भरे गुड़िया रानी।
ताली बजा हँस रही, कैसी है सयानी।
अरे, गिरते ही आँसू आए क्यों निकल ?
पइयाँ-पइयाँ चल, बुलू पइयाँ-पइयाँ चल।
गिर-गिर के ही तू, सीखेगी आगे बढ़ना।
गिरे इस पल, उठ अगले ही पल।
पइयाँ-पइयाँ चल, बुलू पइयाँ-पइयाँ चल।


तितली


तितली हूँ मैं रंग-बिरंगी,
बगिया में मँडराती।
फूलों से मीठा रस पीती,
कितनी खुश हो जाती।
बुलू दौड़ती अगर पकड़ने,
हाथ न उसके आती।
जब वह मुझसे टा-टा करती
तब मैं पंख हिलाती।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book