सत श्री अकाल - राजेश दीक्षित Sat Shree Akal - Hindi book by - Rajesh Dixit
लोगों की राय

नाटक एवं कविताएं >> सत श्री अकाल

सत श्री अकाल

राजेश दीक्षित

प्रकाशक : सहयोग प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 1998
पृष्ठ :32
मुखपृष्ठ :
पुस्तक क्रमांक : 4679
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 4 पाठकों को प्रिय

438 पाठक हैं

गुरुगोविन्द सिंह, गुरु नामदेव, गुरु तेगबहादुर, भगवान् महावीर तथा अभेद-भाव शीर्षक से कविताएं...

Sat Shree Akal

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश


इस पुस्तक में पाँच कविताएं संकलित हैं। पहली कविता सिक्खों के दशम तथा अन्तिम गुरु गोविन्दसिंह जी से, दूसरी कविता प्रथम गुरु नानकदेव जी से तथा तीसरी कविता नवम गुरु तेगबहादुर जी से सम्बन्धित है। इन कविताओं में गुरुओं के जीवन की घटनाओं का उल्लेख करते हुए उनके उपदेशों का सार-संक्षेप में प्रस्तुत किया गया है। चौथी कविता जैनियों के चौबीसवें थीर्थंकर भगवान् महावीर स्वामी से सम्बन्धित है। तथा पाँचवी अभेद भाव शीर्षक रचना में सर्वधर्म समभाव पर प्रकाश डालते हुए धार्मिक अथवा साम्प्रदायिक सौहार्द्र को अपनाने पर बल दिया गया है...


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book