दुनिया के आश्चर्य - धर्मपाल शास्त्री Duniyan Ke Aascharya - Hindi book by - Dharampal Shastri
लोगों की राय

बाल एवं युवा साहित्य >> दुनिया के आश्चर्य

दुनिया के आश्चर्य

धर्मपाल शास्त्री

प्रकाशक : फीनिक्स बुक्स इंटरनेशनल प्रकाशित वर्ष : 2006
पृष्ठ :16
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 5038
आईएसबीएन :81-89356-12-7

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

306 पाठक हैं

इसमें दुनिया के आश्चर्य का वर्णन किया गया है।

Duniya Ke Aashcharya -A Hindi Book by Dharmpal Shastri

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

संगमरमर में कविता

ताजमहल

आगरा का ताजमहल सम्राट् शाहजहाँ और उनकी साम्राज्ञी मुमताजमहल के अमर-प्रेम की अजर निशानी है। शाहजहाँ का बचपन का नाम राजकुमार खुर्रम और मुमताजमहल का बानो बेगन था।

एक बार जब राजकुमार खुर्रम खुशरोज़ के मेले से लौटे तो उनकी आँखों में चमक और कपोलों पर लालिमा थी, पर पलके कुछ झुकी-झुकी-सी। बगल में दबाए हुए चार-छः सुनहरी डिब्बे उनकी प्रसन्नता की गवाही दे रहे थे। जहांगीर ने एक ओर वह खरीद और दूसरी ओर बेटे की इस खिली मुद्रा को देखा तो प्रसन्न होकर बोले- ‘‘शाबाश खुर्रम ! लगता है अब मेरा बेटा राजकुमारो का-सा सलीका सीखता जा रहा है।

लाओ तो मैं भी देखूँ। कि तुम्हारी पहली पसन्द कितनी खूबसूरत है।’’
खुर्रम ने अंग में अंग चुराते हुए अपनी खरीद के वे डिब्बे चुपचाप पिता की ओर बढ़ा दिया। जहाँगीर ने समझा था होंगे कोई खेल-खिलौने, पर जब ढक्कन उठाकर देखा तो मखमल में लिपटे हुए चमचम करते सलौने आभूषण झाँक उठे- इसमें मोतियों का हार, उसमें हीरे की अगूँठी, किसी में चांदी के झुमके और किसी में कलाइयों के कंगन। जहाँगीर ने मीठी हँसी हँसते हुए पूछा किस गुड़िया के लिए है ये आभूषण ?’’


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book