मुजरिम हाज़िर - विमल मित्र Mujrim Hazir - Hindi book by - Vimal Mitra
लोगों की राय

सामाजिक >> मुजरिम हाज़िर

मुजरिम हाज़िर

विमल मित्र

प्रकाशक : राजपाल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :736
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 5051
आईएसबीएन :9788170284925

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

21 पाठक हैं

बंगला के लोकप्रिय उपन्यासकार विमल मित्र का बंगला में प्रकाशित उपन्यास ‘आसामी हाज़िर’ का हिन्दी अनुवाद...

Mujrim Hazir by Vimal Mitra

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

विमल मित्र सुप्रसिद्ध उपन्यासकार हैं और मुजरिम हाज़िर में उनकी औपन्यासिक कला ने यह चरम उत्कर्ष पाया है कि यह उपन्यास सहज ही एक महान महाकाव्य की श्रेणी में आता है।

बंगला के सर्वाधिकार लोकप्रिय उपन्यासकार विमल मित्र का यह उपन्यास ‘आसामी हाज़िर’ नाम से बंगला में दो वर्ष तक लगातार प्रकाशित होता रहा है। विमल मित्र ने इसमें चरित्रनायक सदानन्द के माध्यम से हमें सामाजिक जीवन के रन्ध्र-रन्ध्र में फैली दुर्नीति, दुराचार, ग्लानि और अन्याय को आँखों में अंगुली गड़ाकर दिखाया है। लेकिन उनकी दृष्टि केवल अन्धकार की ओर नहीं रही है, उनके ‘सक्रिय भलेमानुस’ सदानन्द ने ‘दिव्य प्रेम की पावन जोत’ भी हाथ में ले रखी है और इस तरह उपन्यासकार ने प्रखर प्रकाश की ओर भी देखा है। मुजरिम हाज़िर में जिस विशाल जगत की सृष्टि उन्होंने की है, उसकी प्रत्येक घटना, प्रत्येक चरित्र ऐसा विश्वास योग्य और हृदयग्राही है कि पाठक जगत में अनजाने शामिल हो जाता है - यह जगत उसका ही जगत बन जाता है।



अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book