इमाम बुखारी का नैपकिन - मुशर्रफ आलम ज़ौकी Imam Bukhari ka Napkin - Hindi book by - Musharraf Alam Zauki
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> इमाम बुखारी का नैपकिन

इमाम बुखारी का नैपकिन

मुशर्रफ आलम ज़ौकी

प्रकाशक : पेंग्इन बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2007
पृष्ठ :216
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 5087
आईएसबीएन :0143101005

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

446 पाठक हैं

13 लघु कहानियों का संग्रह...

Imam Bukhari ka Napkin-A Hindi Book by Musharaf Alam Zauki

ज़ौक़ी की कहानियां दरअसल राजनीतिक और सामाजिक सरोकारों का कहानियां हैं, लेकिन हर बार अपने बोल्ड विषयों के कारण ज़ौक़ी की कहानियां अत्यधिक चर्चा में आ जाती हैं। इमाम बुखारी का नैपकिन दरअसल भारत में स्वाधीनता और विभाजन की त्रासदी झेल रहे आम मुसलमानों का आत्मकथा है, जिनका राजनीतिक पार्टियां अपने अपने वोट बैंक के आधार पर आसानी से दोहन अथवा शोषण करती और अंत में जूठे नैपकिन के टुकड़ों की तरह हाथ पोंछकर उन्हें गन्दी नाली में फेंकती आई हैं। आम मुसलमानों की पीड़ा जिस सशक्त माध्यम व प्रतीकों द्वारा ज़ौक़ी की कहानियों में अभिव्यक्त होती हैं, वो इससे पहले बहुत कम देखने में आयी थी। बाबरी मस्जिद और गुजरात हो या स्वतन्त्रता के बाद सांप्रदायिक दंगों का काला इतिहास, ज़ौक़ी की विशेषता यही है कि वे केवल एक करुणामय और दारुण-गाथा सुनाकर आपको क्षणिक भावुक नहीं करते, बल्कि उन राजनीतिक सरोकारों को आज के सामाजिक सरोकारों से सीधे जोड़ते हैं और एक बड़े चिंतन का विषय बना देते हैं। इस दृष्टिकोण से देखें तो ‘नैपकिन’ से ‘पिरामिड’ तक की गाथा भारत के हाशिये पर फेंक दिए गए सारे मुसलमानों की आपबीती बन जाती है।

अनुक्रम


  • इमाम बुखारी का नैपकिन
  • ड्रैकुला
  • वारेन हेस्टिंग्स की टोपी
  • पिरामिड
  • टेलीफ़ोन
  • हैरान मत हो संघमित्रा
  • स्पंदन
  • अपने अपने अजनबी
  • सबसे भयानक होता है, सपने का मर जाना...
  • जिलावतन
  • गैस चैम्बर के घोड़े
  • सज़ा-ए-मोहब्बत


  • प्रथम पृष्ठ

    अन्य पुस्तकें

    लोगों की राय

    No reviews for this book