न्याय अन्याय - विमल मित्र Nyay Anyay - Hindi book by - Vimal Mitra
लोगों की राय

सामाजिक >> न्याय अन्याय

न्याय अन्याय

विमल मित्र

प्रकाशक : राजभाषा प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2006
पृष्ठ :104
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 5842
आईएसबीएन :81-811-014-4

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

106 पाठक हैं

इस विश्व के सृष्टिकर्ता जब किसी मनुष्य को दुनिया में भेजते हैं, भेजने के साथ ही मन नामक एक वस्तु उसके अंदर डाल देते हैं और कहते हैं, ‘‘अब जाकर संघर्ष करो...’’

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book