तीन सवाल - लियो तोल्सतोय Teen Sawal - Hindi book by - Lio Tolstoy
लोगों की राय

अतिरिक्त >> तीन सवाल

तीन सवाल

लियो तोल्सतोय

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया प्रकाशित वर्ष : 2006
पृष्ठ :16
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 6158
आईएसबीएन :81-237-0976-5

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

403 पाठक हैं

लियो तोल्सतोय की लेखनी से निकली कहानी तीन सवाल....

Teen Sawal-A Hindi Book by Lio Tolstoy

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

तीन सवाल


एक था राजा। वह बड़ा समझदार और धुन का पक्का था। वह जो सोचता उसका हल ढूंढकर ही चैन लेता। किसी भी काम में अपनी हार उसे बहुत अखरती। वह सोचता, क्या उपाय किया जाए, जिससे वह कभी न हारे।
एक दिन उसके मन में तीन सवाल उठे। पहला सवाल था-किसी काम को करने का सही समय कौन-सा होता है ? दूसरा सवाल था-किसकी बात सुननी चाहिए और किसे टालना चाहिए ? और सबसे बड़ा तीसरा सवाल था कि सबसे जरूरी काम कौन-सा है?
अपने इन तीन सवालों का जवाब पाने के लिए राजा ने अपने राज्य में डुगडुगी पिटवाई : ‘‘जो भी इन तीन सावलों का जवाब देगा उसे इनाम दिया जाएगा।’’
डुगडुगी पिटते ही दूर-दूर से लोग राजा के पास आने लगे।
पहले सवाल के जवाब में कुछ लोगों ने कहा-किसी काम को शुरू करने से पहले सोच लेना चाहिए कि काम कितने दिन या महीने में पूरा होगा। फिर काम करने का समय और तरीका नियत करना चाहिए। फिर उसी के अनुसार काम करना चाहिए। सही समय पर काम पूरा करने का यही एक सही तरीका है।
कुछ और लोगों का मानना था कि काम का समय तय करना कठिन है। लेकिन बेकार के कामों में समय न गंवाएं। जो भी आसपास हो रहा हो उस काम में लग जाएं। एक तीसरा दल भी था। उसका कहना था-राजा अकेले कैसे हर काम शुरू करने का समय कैसे तय कर सकता है ? राजा के पास सलाहकार होने चाहिए। उनकी मदद से राजा तय कर सकता है कि काम कब और कैसे किया जाय।   


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book