बड़े घर की बेटी - प्रेमचंद Bade Ghar Ki Beti - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

मनोरंजक कथाएँ >> बड़े घर की बेटी

बड़े घर की बेटी

प्रेमचंद

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया प्रकाशित वर्ष : 2004
पृष्ठ :24
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 6198
आईएसबीएन :81-237-4884-9

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

321 पाठक हैं

बेनी माधव सिंह गौरीपुर गांव के जमींदार और नंबरदार थे। उनके पिता किसी समय बड़े आदमी थे। धन की कोई कमी न थी। गांव का पक्का तालाब और मंदिर उन्होंने बनवाया था।

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ

विनामूल्य पूर्वावलोकन

Prev
Next
Prev
Next

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book