डॉक्टरी - रबीन्द्रनाथ टैगोर Doctari - Hindi book by - Rabindranath Tagore
लोगों की राय

अतिरिक्त >> डॉक्टरी

डॉक्टरी

रबीन्द्रनाथ टैगोर

प्रकाशक : इण्डियन बुक बैंक प्रकाशित वर्ष : 2007
पृष्ठ :24
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 6244
आईएसबीएन :81-8115-013-9

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

438 पाठक हैं

प्रस्तुत है रवीन्द्रनाथ टैगोर की कलम से एक बाल कहानी ...

Doctoree -A Hindi Book by Ravindranath Tagore

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

डॉक्टरी

विश्वंभर बाबू पालकी सवार होकर सप्तग्राम जा रहे थे। फागुन का महीना आ गया था, पर जाड़ा अभी काफी पड़ रहा था। कुछ दिन हुए, पूरा सप्ताह-भर झड़ी लगी रही थी। विश्वंभर बाबू ने एक मोटा कंबल ओढ़ लिया था। पालकी के साथ-साथ उनका नौकर शंभू चल रहा था- हाथ में मोटी-सी लाठी लिए हुए। पालकी की छत पर रस्सी से बंधी दवाओं की पिटारी रखी हुई थी। शंभू तगड़ा पहलवान है ! एक बार कुंभीरा के जंगल में उसे रीछ ने पकड़ लिया था। वह बिना बन्दूक के इस लाठी से ही रीछ के साथ भिड़ गया। शंभू की लाठी की मार से रीछ की हड्डी-पसली टूट गई।

ऐसे ही एक बार और शंभू विश्वंभर बाबू के साथ स्वर्णगंज गया था। वहाँ पद्मा नदी के तट पर खाना पकाना पड़ा। नदी के किनारे-किनारे झाउ के छोटे-छोटे पौधों के जंगल से जलाने के लिए डालें काटकर गट्ठर बांधा गया। दोपहर की तेज धूप थी। बदन जल रहा था। प्यास के मारे गला सूख रहा था। झाउ काटने के बाद शंभू पानी पीने के लिए नदी में उतरा। वहाँ उसे देखा कि एक घड़ियाल एक बछड़े को मुँह में पकड़े लिए जा रहा है। शंभू छलांग लगाकर घड़ियाल की पीठ पर जा चढ़ा और कुल्हाड़ी से उसकी गर्दन पर जोर से चोटें करने लगा। घड़ियाल लहूलुहान हो गया। खून से पानी लाल हो गया। छटपटाते घड़ियाल ने मजबूर हो बछड़े को छोड़ दिया। इस तरह बछड़े को बचाकर शंभू तैरता हुआ किनारे पर आ गया। शंभू हर संकट में डॉक्टर बाबू के काम आता था।


प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book