बे-दरो-दीवार का इक घर बनाया चाहिए - विभु कुमार Be-Daro-Diwar Ka Ek Ghar Banaya Chahiye - Hindi book by - Vibhu Kumar
लोगों की राय

नाटक-एकाँकी >> बे-दरो-दीवार का इक घर बनाया चाहिए

बे-दरो-दीवार का इक घर बनाया चाहिए

विभु कुमार

प्रकाशक : नेशनल पब्लिशिंग हाउस प्रकाशित वर्ष : 2004
पृष्ठ :68
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 6421
आईएसबीएन :81-214-249-2

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

156 पाठक हैं

आज के संदर्भ में और आने वाले कल के संदर्भ में यह नाटक महत्त्वपूर्ण एवं प्रासंगिक ठहरता है...

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ

लोगों की राय

No reviews for this book