हिमाचली लोक कथा - प्रत्यूष गुलेरी Himachali Lok Katha - Hindi book by - Pratyush Guleri
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> हिमाचली लोक कथा

हिमाचली लोक कथा

प्रत्यूष गुलेरी

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :90
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 6438
आईएसबीएन: 81-237-5229-7

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

20 पाठक हैं

हिमाचली लोक कथां वी संस्कृत दी पंचतंत्र, हितोपदेश कनैं वृहतकथां लेखा केई उपदेशां, नीतिवाकां, आचरण-आदर्शां कनै मनोरंजन-मिठासां सौगी भरियां हन....

Himachali Lok Katha

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश


हिमाचली लोक कथां वी संस्कृत दी ‘पंचतंत्र’, ‘हितोपदेश’ कनैं ‘वृहतकथां’ लेखा केई उपदेशां, नीतिवाकां, आचरण-आदर्शां कनैं मनोरंजन-मिठासां सौगी भरियां हन। केई कथां देहियां वी हैन जिह्नां च क़ली-दर क़ली जुड़दी चली जांदी ऐ। अज पुराणे काथू मुकी गे। इसा हालता च अनमोल कथां रे ख़जाने जो भविख ताईं सम्हाली रखणा बड़ा जरूरी ऐ। इस संकलना च तुसां जो लगभग पूरे हिमाचले री लोककथां रे सब रूप, भेद कनैं लिखारियां दी भाषा रे नमूने तुसां जो मिल्लणे। इस सांझी हिमाचली भाषा रा मानक रूप वी तुसां जो इह्नां कथां च मुज्झणा ऐ।

भूमिका


कुसी वी भाषा दे विकास च लोक साहित्य रा टकोदा योगदान होंदा ऐ। लोक साहित्य उस भाषा दी पुरातनता कनैं समृद्धता दा वी प्रतीक ऐ। हिमाचली वी आधुनिक भारती भाषां च उतणी ई पुराणी भाषा ऐ जितणियां कि होर। इसके लिखित नमूने असां जो 16वीं शताब्दी च गुलेर दी राणी श्रीमती विक्रम दे थ्होंदे हन। आजादी ते पैह्लें पहाड़ी राजेयां दे ज़माने च एह् राजकाजे दी भाषां तां रेही कन्नैं ई कन्नैं एह् कोर्ट कचैहरियां च वी प्रजोग होंदी रेही ऐ। पुराणे हस्तलेख कनैं पांडुलिपियां दी खोजा ते परन्त असां जो इसा दे इसते पैह्लैं वी प्रजोग होणे दे कई सबूत वी मिल्ले हन। एह् सब कोई अचरज व्हाली गल्ल नीं ऐ।
लोक साहित्य हमेशा लोकां मुख जुआन्नी इक पीड़िया तैं दूईया पीड़िया जो थमाहेया ऐ। हिमाचली भाषा च अनगिणत लोक गीत, लोक कथां, लोक कहावतां, लोक मुहावरे, लोकोक्तियां, बुझारतां, बारां, कारकां, झेह्ड़े कनैं गाथां मौजूद हन। मता किछ लोक साहित्य रा गीतां, लोक कथां, मुहावरेयां कनैं लोकोक्तियां दे रूपे च किट्ठा करी छपी नैं असें दे सामणें औणे दी पक उम्मीद ऐ। लोक साहित्य असें हिमाचली लोकें दे सामाजिक आस्था-विश्वासें रीति रिवाजां कनैं संस्कृतियां जो दर्शांदा ऐ। मुख जुआन्नी चली औणे कनैं लोक गीतां, लोक कथां, झेहड़ेयां लोक गाथां बगैरा च थोड़ा-थोड़ा फर्क तां सबनी भाषां दे लोक साहित्य च जुग जुगां ते रैहंदा आया ऐ। एह् फर्क असें री हिमाचली भाषा च वी मिल्लै तां कोई नौईं गल्ल नीं ऐ।

लोकगीतां रे संकलन हिमाचली भाषा च सरकारी गैर-सरकारी कनैं लोकां दे अपणे बक्खुआ तोवी जरूर होए-न अपर लोक कथां मतियां ई घट किट्ठियां होइयां कनैं किताबां रे रूपे च असां रे सामणें घट ई छपी नैं आइयां न।

हिमाचली लोक कथां वी संस्कृत दी पंचतंत्र, हितोपदेश कनैं बृहतकथां सांई केई उपदेशां, नीतिवाकां आचरण-आदर्शां कनैं मनोरंजन-मिठासा सौगी भरियां हन। केई कथां दहियां वी हैन जिह्नां च कल़ी दर कल़ी जुड़दी चली जांदी ऐ। पहल्के समें च जदूं असें बच्चे थे तां देहयो दे काथू ज़रूर थे। असां वी अपणे बचपने च आचार्य दुर्गादत्त, महंतो दाईया कनैं अपणी माऊ श्रीमती सत्यावती गुलेरी तें केई कथां सुणियां थिह्यां। अज केई भुल्ली गेइयां कनैं केई आज भी दिल दिमागे च बणिया हैन। अज देहे काथू हण मते ई घट रेही गे हन। इसा हालता च देहो दे अनमोल कथां दे खजाने जो भविख ताईं सम्हाली रक्खणा बड़ा जरूरी ऐ।

इस संकलन दे बिच मेरी कोशिश एह् रेही ऐ कि इस च पूरे हिमाचले री लोक कथां दे सब रूप, भेद कनैं लिखारियां दी भाषा दे नमूने तुसां जो मिल्लण। हिमाचली भाषा च पिछले 40 सालां तें मता विकास कनैं निखार आया ऐ। इक सांझी हिमाचली भाषा दा मानक रूप वी तुसां जो इह्नां कथां च सुज्झणां ऐ। थोड़ा बहुत अंतर सबनीं भाषा च रैहंदा ऐ एह् गल्ल असां रे सब विदुआन खरा करी जाणदे ई हन।

लिखारियां कुस तरीके नैं हिमाचली जो सजाणा-संबारणा ऐ एहे तुसां तिह्नां पर ई छड्डी देह्या। कदी एह् मत बोला कि इसा च बोलियां ई बड़ियां हैन। एह् गलणा तुसां रे घट भाषा ज्ञान जो दस्सदा ऐ। तुसां जो भाषां दी पूरी जाणकारी ई नी ऐ। कोई वी भाषा बिनां बोलियां ते नेहीं होंदी। बोलियां च ई भाषा चुप चपीती छुप्पी रैंह्दी समें औणे पर तिसा जो मानता मिलदी। हिंदी, बंगला, तमिल, तेलगू, गुजराती, पंजाबी, मराठी, डोगरी च क्या बोलियां नेहीं। भाषा विज्ञान तुसां पढ़न तां पता लग्गै। नेंही तां नौलां लेखा चीखदेयां रैह्णा—नहीं पता तां चुप तां चुप करी बैठी रेह्या।

एह् खुशी दी गल्ल ऐ कि साहित्य अकादमी रे बाद नेशनल बुक ट्रस्ट इंडिया रे अध्यक्ष प्रोफेसरे विपिन चन्द्र ने हिमाचली भाषा च कुछ किताबां छापणे दा प्रशंसा जोग फैसला लेया ऐ। कोई दो करोड़ हिमाचली भाषा-भाषियां जो राष्ट्रीय स्तर पर पन्छाण मिल्ली ऐ। इसे करी नैं मिंह्जो लोककथां रे चुणाः च मता सजग सचेत वी रैह्णा पेया ऐ। इस संकलन च लोककथां दे मते साते रूप भेद रुचियां दी जानकारी देणा वी इक खास उद्देश रेह्या ऐ। एह् लोककथां बच्चेयां, नौजुआनां कनैं बड्डेयां माहणुआं दा वी मनोरंजन करगियां कनैं दिल जितगियां एह् उमीद ऐ।

एही नेहीं एहे लोक कथां हर वर्ग हर उम्र रे पाठकां च दयालुता, चतुरता, सूझबूझ कनैं चरित्र निर्माण दे गुणां जो वी जगांगियां एह् शक नीं। एह् तां हाली शुरुआत ऐ। नेशनल बुक ट्रस्ट इंडिया नैं लोककथा दी इक किताबा जो हिमाचली भाषा च छापी नैं नौईं लीक पाई ऐ, हिमाचली पाठक-लेखक इसका भरपूर सुआगत करगे देही उमीद वी ऐ।
असें री हिमाचल सरकार जो वी अपणी कुंभकर्णी निन्द्र छड्डी हिमाचली भाषा जो एम.ए. तैं पढ़ाणे दे इन्तजाम करने ताईं हिमाचल यूनिवर्सिटी च हिमाचली रिसर्च सेंटर कनैं हिमाचली विभाग दी स्थापना करने दी कोशिशां तेज करना चाही-दियां हन।

प्रत्यूष गुलेरी


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book