ग्वालियर संभाग में व्यवहृत बोली रूपों का भाषा वैज्ञानिक अध्ययन - सीता किशोर Gwalior Sambhag Mein Vyavrhat Boli Rupon Ka Bhasha - Hindi book by - Sita Kishore
लोगों की राय

अतिरिक्त >> ग्वालियर संभाग में व्यवहृत बोली रूपों का भाषा वैज्ञानिक अध्ययन

ग्वालियर संभाग में व्यवहृत बोली रूपों का भाषा वैज्ञानिक अध्ययन

सीता किशोर

प्रकाशक : आराधना ब्रदर्स प्रकाशित वर्ष : 1998
पृष्ठ :224
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 6472
आईएसबीएन :00000000

Like this Hindi book 1 पाठकों को प्रिय

439 पाठक हैं

ग्वालियर संभाग में व्यवहृत बोली रूपों का भाषा वैज्ञानिक अध्ययन

Gwalior Sambhag Mein Vyavrhat Boli Rupon Ka Bhasha - A Hindi book - by Sita Kishore

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश


इस शोध-प्रबन्ध को 9 अध्यायों के अन्तर्गत वर्गीकृत करके विश्लेषण किया गया है। प्रस्तावना के अन्तर्गत ग्वालियर संभाग का सामान्य परिचय, सीमा, विस्तार, क्षेत्रफल, जनसंख्या, धरातल, जलवायु, वनस्पति, पशु-पक्षी, उपज, व्यवसाय और जातियों का सामान्य परिचय है।

प्रथम अध्याय में भाषायी सीमा, सामान्य बोली-रूप, विश्लेषण का आधार व्याकरणिक-स्वरूप, प्राचीन लिखित गद्य-रूप सम्मिलित करके इन बोली-रूपों का राज्यभाषा, काव्य भाषा और लोक भाषा के रूप में विकास का विवेचन किया गया है। शब्द-संपत्ति का वर्गीकरण, घारों के बोली-रूप तथा इन घारों में व्यवहृत होने वाले बोली-रूपों के नमूने सम्मिलित किये गये हैं।

द्वितीय अध्याय के अन्तर्गत इन बोली रूपों में व्यवहृत स्वर, व्यंजनों को आधार बनाकर ध्वनि-सम्बन्धी विश्लेषण है। संधियाँ, द्वित्व, आगम, लोप, विपर्यय, समीकरण, परिवर्तन, दीर्घता, हृस्वता, बलाघात, सुर और सुर लहर का विवरण व्यवहृत बोलियों के नमूनों को आधार मानकर दिया गया है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book