हैरी पॉटर और अज़्काबान का कैदी - जे. के. रोलिंग Harry Potter and the Prisoner Of Azkaban - Hindi book by - J. K. Rowling
लोगों की राय

बाल एवं युवा साहित्य >> हैरी पॉटर और अज़्काबान का कैदी

हैरी पॉटर और अज़्काबान का कैदी

जे. के. रोलिंग

प्रकाशक : मंजुल पब्लिशिंग हाउस प्रकाशित वर्ष : 2003
पृष्ठ :283
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 6559
आईएसबीएन :81-86775-60-9

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

438 पाठक हैं

हैरी और उसके दोस्तों की मंत्रमुग्ध करने वाली नई कहानी....

इस पुस्तक का सेट खरीदें Harry Potter Aur Azkaban ka Kaidi - A Hindi Book by J.K. Rowling

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

हैरी पॉटर अपने दोस्तों रॉन और हर्माइनी के साथ हॉगवर्ट्स जादू और तंत्र के विद्यालय में थर्ड ईयर की पढ़ाई शुरू करने वाला है। गर्मी की छुट्टियों के बाद हैरी स्कूल जाने के लिए बेताब है। इसमें कोई अजीब बात नहीं है, क्योंकि उसे डर्स्ली परिवार में रहना बहुत भयानक लगता है। लेकिन जब हैरी हॉगवर्ट्स पहुँचता है, तो उसे वहाँ भी तनावपूर्ण माहौल ही मिलता है। हर तरफ दहशत फैली है...तेरह लोगों की सामूहिक हत्या करने वाला खूनी अज़्काबान जेल से भाग, निकला है और उसके इरादे खूँखार हैं। अब उस खूनी का अगला निशाना हॉगवर्ट्स ही है, जहाँ हैरी पढ़ता है। यही वजह है कि हॉगवर्ट्स स्कूल की रखवाली के लिए दमपिशाचों यानी अज्काबान के खतरनाक पहरेदारों को बुलाया गया है....क्या उसका निशाना हैरी पॉटर है?...क्या वह खूनी अपने इरादों में कामयाब हो पाएगा

हैरी और उसके दोस्तों की मंत्रमुग्ध करने वाली नई कहानी, जिसे जे. के. रोलिंग ने अपने चिर-परिचित मनमोहक अंदाज़ में लिखा है।

अध्याय एक

उल्लू ख़त लेकर आए


हैरी पाटर कई मायनों में बहुत ही आसामान्य बच्चा था। एक बात तो यह थी कि उसे गर्मी की छुट्टियाँ बहुत बुरी लगती थीं। दूसरी बात यह थी कि वह सचमुच अपना होमवर्क करना चाहता था, लेकिन उसे रात में सबसे छिपकर चोरी से अपना होमवर्क करना पड़ता था। और सबसे बड़ी बात यह थी कि वह एक जादूगर था।
लगभग आधी रात का समय था। हैरी पेट के बल अपने बिस्तर पर लेटा हुआ था। उसके सिर के ऊपर कंबल किसी टेंट की तरह पड़े थे। उसके एक हाथ में टार्च थी और वह चमड़े के जैकेट वाली एक बड़ी सी पुस्तक (बाथिल्डा बैगशाट की जादू का इतिहास) पढ़ रहा था, जो पुस्तक में ऐसी लाइनें ढूँढ रहा था, जिससे उसे अपना निंबध लिखने में मदद मिले। निबंध का विषय था, ‘चौदहवीं सदी में जादूगरनियों को जलाना पूरी तरह अर्थहीन था विवेचना कीजिए।’

उसकी क़लम एक अच्छे दिखने वाले पैराग्राफ़ पर ठहर गई। हैरी ने अपने गोल चश्मे को नाक के ऊपर धकेला, अपनी टार्च को पुस्तक के पास ले गया और पढ़ने लगाः जादू न जानने वाले लोग (जिन्हें आम तौर पर मगलू नाम से जाना जाता है) मध्य युग में जादू से बहुत डरते थे, परंतु उन्हें उसकी सही पहचान नहीं थी। वे असली जादूगर या जादूगरनी को कभी-कभार ही पकड़ पाते थे। और जब ऐसा होता था, तब भी उस पर जलाने का कोई असर नहीं होता था। जादूगरनी एक आसान आग-रोधक मंत्र पढ़ देते थे और फिर दर्द से चीखने का नाटक करते थे, जबकि उन्हें सिर्फ हल्की सी गुदगुदी महसूस होती थी। दरअसल वेडेलिन नामक जादूगरनी को तो जलाया जाना इतना पसंद था कि उसने खुद को विभिन्न वेशों में सैंतालिस बार पकड़वाया।

हैरी ने क़लम अपने दाँतों के बीच में रख ली। इसके बाद उसने तकिए के नीचे रखी दवात और चर्मपत्र की तरफ़ हाथ बढ़ाया। धीरे-धीरे और बहुत सावधानी से उसने दवात का ढक्कन खोला, उसमें अपनी क़लम डुबाई और लिखना शुरू किया। वह थोड़ी-थोड़ी देर में रुककर सुन लेता था, क्योंकि अगर डर्स्ली परिवार के किसी सदस्य ने बाथरूम जाते समय उसकी क़लम की आवाज़ सुन ली तो उसकी ख़ैर नहीं थी। उसे शायद पूरी छुट्टियों में सीढ़ियों के नीचे वाली अलमारी में बंद कर दिया जाएगा।

प्रिविट ड्राइव के मकान नंबर चार में रहने वाले डर्स्ली परिवार के कारण ही हैरी को गर्मी की छुट्टियाँ बहुत बुरी लगती थीं। वरनॉन अंकल, पेटूनिया आंटी और उसका पुत्र डडली हैरी के इकलौते जीवित रिश्तेदार थे। वे मगलू थे और जादू के प्रति उनका नज़रिया चौदहवीं सदी के लोगों जैसा ही था। हैरी के माता-पिता जादूगर थे, लेकिन डर्स्ली परिवार में उनके नाम का ज़िक्र तक नहीं होता था। पेटूनिया आंटी और वरनॉन अंकल को आशा थी कि अगर उन्होंने हैरी को बचाकर रखा, तो उसका जादू बाहर नहीं आ पाएगा। बहरहाल, उनकी चाल कामयाब नहीं हुई, जिससे वे बहुत गुस्से में थे। अब उनके मन में यह दहशत थी कि कहीं किसी को यह पता न चल जाए कि हैरी पिछले दो साल से हागवर्ट्स जादू और तंत्र के विद्यालय में पढ़ रहा है। अब डर्स्ली दंपति ज़्यादा से ज़्यादा बस इतना ही कर सकते थे कि गर्मी की छुट्टियाँ शुरू होते ही हैरी की जादू की किताबें, छड़ी, कड़ाही तथा झाड़ू को ताले में बंद कर दें और उसे पड़ोसियों से बातें न करने दें।

अपनी जादू की किताबों के ताले में बंद हो जाने से हैरी बहुत परेशान था, क्योंकि हागवर्ट्स के टीचर ने छुट्टियों के लिए उसे ढेर सारा होमवर्क दिया था। हैरी के सबसे कम प्रिय टीचर प्रोफेसर स्पेन ने उसे एक बहुत मुश्किल निबंध दिया था, सिकोड़ने वाले काढ़े पर था। अगर हैरी ने स्पेन का होमवर्क पूरा नहीं किया, तो उसे मजा आ जाएगा और हैरी को एक महीने की सजा देने का बहाना मिल जाएगा। इसलिए जब छुट्टियों के बाद पहले ही सप्ताह में हैरी को मौका मिला तो उसने उसका लाभ उठा लिया था। उस वक्त वरनॉन अंकल, पेटूनिया आंटी और डडली सामने वाले बगीचे में थे। वे वहाँ पर वरनॉन अंकल को कंपनी से मिली कार देखने गए थे। (जिसकी उन्होंने बहुत तेज आवाज़ों में तारीफ़ की, ताकि पड़ोसी सुन लें और उसे देख लें)। हैरी ने देर नहीं की। वह बग़ैर आवाज़ किए जल्दी से नीचे गया, सीढ़ियों के नीचे वाली अलमारी का ताला तोड़ा, उसमें से अपनी कुछ पुस्तकें निकालीं और उन्हें अपने बेडरूम में छिपा लिया। जब तक कि चादरों पर स्याही के निशान न रहें, तब डर्स्ली दंपति को यह कभी पता नहीं चल पाएगा कि वह रात में जादू की पढ़ाई कर रहा है।
हैरी उस समय अपने अंकल-आंटी से कोई पंगा मोल नहीं लेना चाहता था, क्योंकि वे पहले ही उससे उखड़े हुए थे। इसका कारण यह था कि स्कूल की छुट्टियाँ शुरू होने के कुछ दिन बाद ही उसके एक जादूगर मित्र ने उसे फोन किया था।
रॉन वीज़्ली हागवर्ट्स में हैरी के सबसे अच्छे दोस्तों में से एक था। उसके परिवार में सभी जादूगर थे। इसका मतलब यह था कि वह ऐसी बहुत सी चीज़ें जानता था, जो हैरी को नहीं मालूम थीं, लेकिन उसने इससे पहले कभी टेलीफोन का इस्तेमाल नहीं किया था। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण था कि उसका फ़ोन वरनॉन अंकल ने उठाया।
‘वरनॉन डर्स्ली बोल रहा हूँ।’
संयोग से हैरी उस समय उसी कमरे में था। दूसरी तरफ़ से रान की आवाज़ आते सुनकर वह किसी पत्थर की मूर्ति की तरह खड़ा रह गया।
‘हैलो ? हैलो ? क्या आपको मेरी आवाज़ सुनाई दे रही है ? मैं - हैरी - पॉटर - से - बात - करना - चाहता – हूँ !’
रॉन इतनी जम कर चिल्ला रहा था कि वरनॉन अंकल उछल पड़े। रिसीवर को अपने कान से एक फुट दूर रखकर वे उसे ग़ुस्से और दहशत भरे भाव से घूरते रहे।
फिर वे रिसीवर की तरफ़ मुँह करके दहाड़े, ‘कौन है ? तुम हो ?
‘रॉन-वीज़्ली।’ दूसरी तरफ़ से रॉन गरजा। उसकी आवाज़ इतनी तेज़ थी, जैसे वह और वरनॉन अंकल फ़ुटबाल के मैदान के विपरीत छोरों से बात कर रहे हों।
‘मैं - हैरी - का – स्कूल – का – दोस्त - हूँ।’
वरनॉन अंकल की छोटी आँखें हैरी को घूरने लगीं जो उसी जगह मूर्ति की तरह खड़ा था।
फिर उन्होंने गरजते हुए कहा, ‘यहाँ कोई हैरी पाटर नहीं रहता है।’ इस समय उन्होंने रिसीवर को एक हाथ दूर पकड़ रखा था, मानो उन्हें यह डर हो कि इसमें विस्फोट हो सकता है। ‘मैं नहीं जानता कि तुम किस स्कूल का ज़िक्र कर रहे हो। अब दोबारा कभी फोन मत करना। कभी मेरे घर परिवार के आसपास भी नजर नहीं आना।’
फिर उन्होंने रिसीवर को टेलीफ़ोन पर इस तरह पटका. जैसे वे किसी जहरीली मकड़ी को पटक रहे हों।
उसके बाद जो फ़साद हुआ वह बहुत भयानक था।
अंकल वरनॉन ने गरजते हुए और हैरी पर थूक की बौछार करते हुए कहा, ‘अपने जैसे लोगों को यह नंबर देने की तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई।’
ज़ाहिर है, रॉन समझ गया था कि उसके फ़ोन की वजह से हैरी मुसीबत में फँस गया होगा, इसलिए उसने दोबारा फोन नहीं किया। हागवर्ट्स में हैरी की एक और अच्छी मित्र हर्माइनी ग्रेंजर ने भी उसे फोन नहीं किया। हागवर्ट्स में हैरी की एक और अच्छी मित्र हार्माइनी को फ़ोन न करने की सलाह दे दी होगी। यह दुखद था, क्योंकि हर्माइनी हैरी की क्लास की सबसे चतुर जादूगरनी थी, उसके माता-पिता मगलू थे और वह अच्छी तरह जानती थी कि टेलीफ़ोन का इस्तेमाल कैसे किया जाता है... और वह शायद इतनी समझदार भी थी कि वह यह नहीं कहती कि वह हागवर्ट्स...में पढ़ती है।
इस तरह हैरी को पाँच सप्ताह तक अपने जादूगर मित्रों की कोई ख़बर नहीं मिली। इस साल की गर्मी की छुट्टियाँ भी पिछले साल जितनी ही बुरी बीत रही थीं। सिर्फ एक छोटा सा सुधार हुआ था, हैरी को इस बात की इज़ाजत मिल गई थी कि वह अपनी उल्लू हेडविग को रात में बाहर छोड़ दिया करे। बहरहाल, इसके लिए उसे यह वादा करना पड़ा था कि वह उसके माध्यम से अपने दोस्तों को खत नहीं भेजेगा। वरनॉन अंकल ने यह इज़ाजत मज़बूरी में दी थी, क्योंकि अगर हेडविग को चौबीसों घंटे पिंजरे में बंद रखा जाता, तो वह बहुत हुड़दंग मचा देती।
वेंडेलिन नामक जादूगरनी के बारे में लिखने के बाद हैरी एक बार फिर यह सुनने के लिए रुका कि कहीं कोई जाग तो नहीं गया। अँधेरे घर की ख़ामोशी में सिर्फ़ उसके मोटे मौसेरे भाई डडली के खुर्राटे की आवाज़ दूर सुनाई दे रही थी। उसने सोचा, बहुत रात हो गई होगी। हैरी की आँखें थकान के मारे जल रही थीं। शायद वह इस निबंध को कल रात को पूरा कर लेगा....
उसने अपनी दवात का ढक्कन बंद किया और अपने बिस्तर के नीचे से तकिये का एक पुराना कवर निकाला। फिर उसने टार्च, जादू का इतिहास। अपना निबंध क़लम और दवात उस तकिए के कवर में भरे। इसके बाद वह बिस्तर से उतरा और सारा समान बिस्तर के नीचे वाले फ़र्श पर रखे एक उखड़े हुए बोर्ड के नीचे रख दिया। फिर वह उठकर खड़ा हुआ हाथ फैलाकर अंगड़ाई ली और बिस्तर के पास वाली टेबल पर रखी चमकने वाली अलार्म घड़ी में समय देखा।
रात के एक बज चुके थे। हैरी के पेट में एक अजीब सी हलचल हुई। उसे पता भी नहीं चला था कि वह पूरे एक घंटे पहले तेरह साल का हो गया था।
हैरी के बारे में एक और असामान्य बात यह थी कि उसे अपने जन्मदिनों से बहुत कम उम्मीदें रहतीं थीं। उसे जिन्दगी में कभी कोई बर्थडे कार्ड नहीं मिला था। डर्स्ली दंपति दो सालों से हैरी के जन्मदिन को पूरी तरह अनदेखा कर रहे थे और उसके पास यह मानने का कोई कारण नहीं था कि वे इस जन्मदिन को याद रखेंगे।
हैरी अँधेरे कमरे में हेडविग के बड़े खाली पिंजरे के पास से होता हुआ खुली खिड़की के पास पहुँचा। वह उसकी चौखट पर झुका। उसे अपने चेहरे पर रात की ठंडी हवा महसूस हुई। कंबलों के भीतर काफ़ी देर तक रहने के बाद उसे यह हवा बहुत अच्छी लग रही थी। हेडविग दो रातों से गायब थी, लेकिन हैरी इस बात से परेशान नहीं था। वह पहले भी कई बार लंबे समय तक गायब रह चुकी थी। बहरहाल, हैरी चाहता था कि हेडविग जल्दी लौट आए। इस घर में वह थी, जो उसे देखकर नाक भौं नहीं सिकोड़ती थी।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book