अमिताभ बच्चन - सौम्य वंद्योपाध्याय Amitabh Bachchan - Hindi book by - Saumya Vandyopadhyaya
लोगों की राय

सिनेमा एवं मनोरंजन >> अमिताभ बच्चन

अमिताभ बच्चन

सौम्य वंद्योपाध्याय

प्रकाशक : वाणी प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :610
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 6622
आईएसबीएन :9789350003114

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

393 पाठक हैं

अति साधारण चेहरे के इन्सान ने धीरे-धीरे कैसे एक पूर्ण प्रजन्म का प्रतीक अपने आप को खड़ा किया, पूर्ण हक के साथ अपने आप को मनोरंजन की दुनिया का सरताज घोषित किया...

Amitabh Bachchan - A hindi Book by Saumya Vandopadhyay

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

कुछ सालों पहले अखबार में एक विज्ञापन प्रसारित हुआ था। विज्ञापन एक फिल्म पत्रिका का था। प्रकाशन जगत् में इस पत्रिका के आविर्भाव की सूचना देना ही विज्ञापन का उद्देश्य था। उसमें एक वाक्य था जिसका हिन्दी रूपांतरण है : ‘‘बड़ा होकर अमिताभ बच्चन बनना चाहता हूँ।’’ बहुत स्पष्ट ही एवं सरल वाक्य है और अर्थ तो बिल्कुल शीशे की तरह साफ है। मैं सफल होना चाहता हूँ और वह सफलता किसी तरह चाहिए। अ-मि-ता-भ ब-च्च-न।

वह सफलता, जिसकी तरफ लोग लोलुप दृष्टि से ताकते रहते हैं या जिसको पाने के स्वप्न देखा करते हैं, कैसे प्राप्त होती है ? दूसरे शब्दों में यह कहा जाय कि इतने लोग अभिनय करते हैं, लेकिन अमिताभ बच्चन एक ही क्यों बनता है ? अच्छे के साथ अच्छा, और सर्वोत्तम के साथ सर्वोत्तम की भिन्नता क्यों तथा किस तरह उत्पन्न होती है ? यह भिन्नता और इस उत्पति के पीछे कौन-कौन सी शक्तियाँ काम करती हैं ? एक मजबूत पारिवारिक बन्धन किस तरह और कितनी सहायता  करता है या फिर नहीं करता। असल में असली बात यह है कि अमिताभ बच्चन का रासायनिक फार्मूला कैसे बनता है यह जिज्ञासा आज ही नहीं है, अनन्तकाल से चली आ रही है।

सौम्य वंद्योपाध्याय इस पुस्तक के प्रत्येक पृष्ठ में यही ढूंढ़ते रहते हैं। अति साधारण चेहरे के इन्सान ने धीरे-धीरे कैसे एक पूर्ण प्रजन्म का प्रतीक होकर अपने आप को खड़ा किया, पूर्ण हक के साथ अपने आप को मनोरंजन की दुनिया का सरताज घोषित किया, जबकि शुरू से ही फिल्म जगत् के होने के बावजूद अपने आप को फिल्म जगत् के अन्य लोगों से भिन्न रखा, अपने चारों तरफ एक मृगमरीचिका की रचना की। आप समझ गये होंगे एक अमिताभ बच्चन वह मरीचिका है जिसके पास पहुँचना या जिसको पकड़ना ही काफी कठिन कार्य है, वह हेली के धूमकेतु हैं जो एक शतक में एक बार ही देखा जा सकता है।

लोगों की राय

No reviews for this book