क्वांटम जगत का रहस्य - रजत चन्द्रा Quantum Jagat ka Rahasya - Hindi book by - Rajat Chandra
लोगों की राय

पर्यावरण एवं विज्ञान >> क्वांटम जगत का रहस्य

क्वांटम जगत का रहस्य

रजत चन्द्रा

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया प्रकाशित वर्ष : 2005
पृष्ठ :114
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 7398
आईएसबीएन :81-237-4200-2

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

295 पाठक हैं

क्वांटम यांत्रिकी के नियम, अनेक क्वांटम घटनाओं तथा क्वांटम और पारंपरिक संसार के बीच संबंधों की जानकारी...

Quantum Jagat ka Rahasya - A Hindi Book by - Rajat Chandra

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

लगभग एक शताब्दी पूर्व प्लांक के विकिरण सिद्धांत की समस्या को सुलझाने के लिए क्वांटम परिकल्पना को लागू किया था। इस परिकल्पना के परिणाम बहुत ही क्रान्तिकारी रहे। इसने पदार्थों की प्रकृति के संबंध में हमारी समझ को बदल कर रख दिया और ऐसे उपयोगों को जन्म दिया जो हमारे जीने और काम करने के तरीकों में परिवर्तन ला रहे हैं।

पुस्तक में क्वांटम यांत्रिकी के नियम, अनेक चमत्कारी क्वांटम घटनाओं तथा क्वांटम और पारंपरिक संसार के बीच संबंधों की जानकारी में हाल में जो प्रगति हुई है उसी की चर्चा की गई हैं। हमें यह पता चलता है कि कैसे विरोधाभास जन्म लेते हैं और किस तरह उनका समाधान किया जाता है। बेल प्रमेय के महत्व और कण सहसंबंधों के संबंध में उल्लेखनीय प्रायोगिक परिणामों पर कुछ विस्तार से चर्चा की गई है। अंत में क्वांटम सिद्धांत के संबंध में हमारी वर्तमान जानकारी को संक्षेप में प्रस्तुत किया गया है।

अमरीका की ए टी एंड टी बेल लेबोरेटरीज में वरिष्ठ तकनीकी कर्मचारी रजत चन्द्रा ने कोलकाता के प्रेसीडेंसी कालेज, साइंस कालेज, साहा इंस्टीट्यूट ऑफ न्युक्लियर फिजिक्स और न्यूयार्क के रोचस्टर विश्वविद्यालय में शिक्षा पाई है। उन्होंने मैरीलैंड विश्वविद्यालय और आयरलैंड के डबलिन स्थित यूनीवर्सिटी कालेज में शिक्षण और शोध कार्य किया है। वह फेडेरल यूनीवर्सिटी ऑफ रियो-द-जनेरियो, ब्राजील में भौतिकी के प्रोफेसर और सैद्धांतिक भौतिकी के विभागाध्यक्ष रहे हैं। उन्होंने यूरोप, संयुक्त राज्य अमरीका और लैटिन अमरीका में कण अनुसंधान के विभिन्न केंद्रों में विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में कार्य किया है।


लोगों की राय

No reviews for this book