डार से बिछुड़ा - सुरेन्द्र मोहन पाठक Dar Se Bichura - Hindi book by - Surendra Mohan Pathak
लोगों की राय

अतिरिक्त >> डार से बिछुड़ा

डार से बिछुड़ा

सुरेन्द्र मोहन पाठक

प्रकाशक : राजा पॉकेट बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2009
पृष्ठ :270
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 7674
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 4 पाठकों को प्रिय

287 पाठक हैं

सस्ते, खुरदुरे कागज में...

बहादुरी, जांबाजी, सरफरोशी जिसकी कौम की ऐसी दास्तान है, जो कि खून से लबरेज खंजर से वक्त की दीवार पर लिखी गयी है। आर्गेनाइज्ड क्राइम को खत्म करने के लिए प्रतिज्ञाबद्ध। बखिया का कातिल, इकबालसिंह का दुश्मन, कम्पनी के हर ओहदेदार के खून का प्यासा, अब कम्पनी का निजाम खुद हथियाने पर आमादा।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book