स्त्री : लम्बा सफर - मृणाल पाण्डे Stri : Lamba Safar - Hindi book by - Mrinal Pandey
लोगों की राय

नारी विमर्श >> स्त्री : लम्बा सफर

स्त्री : लम्बा सफर

मृणाल पाण्डे

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :127
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 7986
आईएसबीएन :9788183615273

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

270 पाठक हैं

स्त्री : लम्बा सफर

Stri : Lamba Safar by Mrinal Pandey

मैं इस बारे में ज्यादा जिरह नहीं करना चाहती कि स्त्री-मुक्ति का विचार हमें किस दिशा में ले जाएगा, लेकिन मुझे हमेशा लगता रहा है, कि अपनी जिस संस्कृति के सन्दर्भ में मैं स्त्री-मुक्ति की चर्चा करना और उसके स्थायी आधारों को चीन्हना चाहती हूँ, उसमें पहला चिन्तन भाषा पर किया गया था। जब दो शब्दों का संस्कृत में समास होता है, तो अकसर अर्थ में अन्तर आ जाता है। इसलिए स्त्री, जो हमारे मध्यकालीन समाज में प्रायः मुक्ति के उलट बन्धन, और बुद्धि के उलट कुटिल त्रिया-चरित्र का पर्याय मानी गई, मुक्ति से जुड़ कर, उन पुराने सन्दर्भों से भी मुक्त होगी, यह दिखने लगता है। अब बन्धन बन कर महाठगिनी माया की तरह दुनिया को नचाने वाली स्त्री जब मुक्ति की बात करे, तो जिन जड़मतियों ने अभी तक उसे पिछले साठ वर्षों के लोकतांत्रिक राज-समाज की अनिवार्य अर्द्धांगिनी नहीं माना है, उनको ख़लिश महसूस होगी। उनके लिए स्त्री की पितृसत्ता राज-समाज परम्परा पर निर्भरता कोई समस्या नहीं, इसलिए इस परम्परा पर उठाए उसके सवाल भी सवाल नहीं, एक उद्धत अहंकार का भी प्रमाण हैं।

इस पुस्तक के लेखों का मर्म और उनकी दिशा समझने के लिए पहले यह मानना होगा कि एक जीवित परम्परा को समझने के लिए सिर्फ मूल स्थापनाओं की नजीर नाकाफी होती है। जब तक हमारी आँखों के आगे जो घट रहा है, उस पूरे कार्य-व्यापार पर हम खुद तटस्थ निर्ममता से चिन्तन नहीं करते, तब तक वैचारिक श्रृंखला आगे नहीं बढ़ सकती।

-भूमिका से



अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book