अम्मा से बातें और कुछ लंबी कविताएं - भगवत रावत Amma Se Baten Aur Kuch Lambi Kavityan - Hindi book by - Bhagwat Rawat
लोगों की राय

कविता संग्रह >> अम्मा से बातें और कुछ लंबी कविताएं

अम्मा से बातें और कुछ लंबी कविताएं

भगवत रावत

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :167
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8019
आईएसबीएन :9788126715909

Like this Hindi book 2 पाठकों को प्रिय

64 पाठक हैं

अम्मा से बातें और कुछ लंबी कविताएं...

Amma Se Baten Aur Kuch Lambi Kavityan - A Hindi Book - by Bhagwat Rawat

समकालीन हिन्दी कविता के वरिष्ट कवि भगवत रावत का काव्य-संसार विविधवर्णी और बहुआयामी है। वे हिन्दी के ऐसे कवि हैं जिन्होंने पिछले पचास वर्षों से निरन्तर रचनारत रहकर अपने आत्मीय देसी मुहावरे में कविता को सम्भव किया है। छोटी कविताओं से लेकर अनेक लम्बी और प्रयोगमूलक कविताओं तक फैला हुआ उनका काव्य-फलक अत्यन्त व्यापक है। उनकी कविताओं का संसार हमारे समाज के निम्नवर्ग से लेकर मध्यवर्ग तक के उन अति साधारण लोगों की जीवन छवियों का ऐसा रचनात्मक दस्तावेज है जो दुनिया में बची हुई मनुष्यता का जीवन्त साक्ष्य है। यथार्थ की ठोस जमीन पर खड़ी उनकी कविता न तो किसी छद्म क्रान्ति का शंखनाद है, न सबकुछ के नष्ट हो जाने की उदासी और अवसाद! उनमें करुणा की ऐसी ऊर्जा है जिसमें जीवन की महक और उसकी खनक छिपी हुई है।

भगवत रावत की कविता रूप और कथ्य के अनेक स्तरों से गुज़रती हुई अपना संसार रचती है। इस दृष्टि से उनकी लम्बी कविताएँ विशेष रूप से द्रष्टव्य हैं। इन कविताओं में उन्होंने बौद्धिकता और आधुनिक जीवन की जटिलताओं को आत्मसात कर जो सहजता और आत्मीयता अर्जित की है, वह समकालीन हिन्दी कविता की विरल उपलब्धि है। ‘अम्मा से बातें’, ‘नकद उधार’, ‘जो भी पढ़ रहा या सुन रहा है इस समय’, ‘लड़का अजूबा’ से लेकर ‘सुनो हिरामन’ और ‘अथ रूपकुमार कथा’ आदि कविताएँ अपनी तरह के अकेले उदाहरण हैं। हाल ही में उनकी लम्बी कविता ‘कहते हैं कि दिल्ली की है कुछ आबोहवा और’ ने न केवल सहित्यक समाज बल्कि व्यापक पाठक समुदाय को आन्दोलित किया है जिसे कई पत्र-पत्रिकाओं ने अपनी-अपनी तरह से रेखांकित भी किया है।

इन कविताओं को जाने-समझे बिना भगवत रावत के कवि स्वभाव को सम्पूर्णता में पहचानना शायद सम्भव नहीं होगा। प्रस्तुत कविता संग्रह इस दृष्टि से भी अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book