बेगम मेरी विश्वास - विमल मित्र Begam Meri Vishwas - Hindi book by - Vimal Mitra
लोगों की राय

ऐतिहासिक >> बेगम मेरी विश्वास

बेगम मेरी विश्वास

विमल मित्र

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :491
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8134
आईएसबीएन :9788180312229

Like this Hindi book 2 पाठकों को प्रिय

242 पाठक हैं

‘बेगम मेरी विश्वास’ मी मराली विश्वास गाँव-देहात की एक गरीब लड़की है लेकिन कालचक्र के प्रभाव से भारत के इतिहास को बदलने में प्रमुख भूमिका निभाती है

Begam Meri Vishwas ( 1 To 2 ) - A Hindi Book - by Vimal Mitra

भारत में अंग्रेजी राज्य की स्थापना के कालखंड पर आधारित एक वृहत महागाथा जो हमें सन् 1757 के बंगाल के प्रसिद्ध प्लासी के युद्ध के बीच लाकर खड़ा कर देती है।

‘बेगम मेरी विश्वास’ मी मराली विश्वास गाँव-देहात की एक गरीब लड़की है लेकिन कालचक्र के प्रभाव से भारत के इतिहास को बदलने में प्रमुख भूमिका निभाती है। घटना-चक्र से यही मराली विश्वास सिराजुद्दौला के हरम में पहुँचकर मरियम बेगम हो जाती हैं और बाद में क्लाइव के पास पहुँच कर बन जाती है मेरी। हिन्दू, मुसलमान और ईसाई तीन विभिन्न धर्मों के संगम की प्रतीक बन जाती है एक मामूली सी लड़की।

दो इतिहास पुरुष सिराजुद्दौला और क्लाइव के बीच थी एक नायिका मराली यानी बेगम मेरी विश्वास, दोनों शत्रुओं का समान रूप से विश्वास जीतने वाली।

सिराजुद्दौला, क्लाइव और मराली तीनों के माध्यम से दो शती पूर्व के बंगाल के इतिहास से दर्ज घटनाएँ अपने आप आँखों के सामने बिखर जाती हैं।

सिद्ध कथाशिल्पी बिमल मित्र की जादूगरी लेखनी ने इस कथा द्वारा यह सत्य उद्घाटित किया है कि मानव-चरित्र कभी नहीं बदलता। दो सौ वर्ष पूर्व जो लोग थे वे दूसरे नामों से आज भी वर्तमान हैं और यह भी सत्य मूर्त हो उठा है कि देश के कर्णधारों के कारण ही देश का पतन नहीं होता, बल्कि जनसाधारण का सामूहिक चरित्र दोष के कारण होता है।

‘बेगम मेरी विश्वास’ एक भारतवर्ष के अतीत, वर्तमान और भविष्य का तिकोना दर्पण भी है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book