चारु चन्द्रलेख - हजारी प्रसाद द्विवेदी Charu Chandralekh - Hindi book by - Hazari Prasad Dwivedi
लोगों की राय

उपन्यास >> चारु चन्द्रलेख

चारु चन्द्रलेख

हजारी प्रसाद द्विवेदी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2018
पृष्ठ :355
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8212
आईएसबीएन :9788126701346

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

319 पाठक हैं

चारु चन्द्रलेख... Novels

Charu Chandralekh - A Hindi Book by Hazari Prasad Dwivedi

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

चारु चन्द्रलेख आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी की कलम से निकली हुई एक गहरी संवेद्य कृति है। इसमें 12वीं-13वीं सदी के भारत का व्यक्ति और समाज बहुत बारीकी से व्यक्त हुआ है। समय के उस दौर में देश के लिए विदेशी आक्रमण का प्रतिरोध एक बड़ी चुनौती का दायित्व था लेकिन देश की समूची अध्यात्मिक तथा इतर शक्तियाँपुरातन अंधविश्वास के रास्ते नष्ट हो रहीं थीं। ऐसे में समाज के पुनर्गठन का काम पूरी तरह से उपेक्षित था और नए मूल्यों के सृजन की ज़रूरत की अनदेखी हो रही थी। हजारीप्रसाद द्विवेदी का यह उपन्यास उस युग की जड़ता तोड़ने के बहाने काल निरपेक्ष रूप से देश में नए उत्साह का संचार करता है। रचना का यही बल इसे कालजयी बनाता है। एक गाम्भीर्य पूर्ण दायित्व को निभाते हुए चारू चन्द्रलेख एक बेहद रोचक वृत्तान्त भी है और इसीलिए इसकी प्रासंगिकता आज भी बनी हुई है। आज भी इसकी ललकार को अनसुना कर पाना सम्भव नहीं है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book