मंजिल अब भी दूर - गंगाधर चिटणीस Manzil Ab Bhi Door - Hindi book by - Gangadhar Chitnees
लोगों की राय

जीवनी/आत्मकथा >> मंजिल अब भी दूर

मंजिल अब भी दूर

गंगाधर चिटणीस

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :176
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8233
आईएसबीएन :9788126721023

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

19 पाठक हैं

गंगाधर चिटणीस द्वारा लिखित मराठी पुस्तक ‘मंजिल अजून दूरच!’ का स्वतंत्र हिन्दी अनुवाद

Manzil Ab Bhi Door by Gangadhar Chitnees

‘मंजिल अब भी दूर’ मुम्बई के कर्मठ साम्यवादी नेता और ट्रेड यूनियन आन्दोलन के अगुआ व्यक्तित्व - गंगाधर चिटणीस द्वारा लिखित मराठी पुस्तक ‘मंजिल अजून दूरच!’ का स्वतंत्र हिन्दी अनुवाद है।

स्व. कॉ. चिटणीस ने अपने 50-60 वर्षों के अनुभवों के आधार पर स्थिति का आकलन कर भारत के ट्रेड यूनियन आन्दोलन में एटक, मुम्बई गिरणी कामगार यूनियन और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के योगदान, कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा समय-समय पर की गई गलतियों, राजनीति का आकलन करने में हुई भूलों, कम्युनिस्ट पार्टी के विभाजन और इन सबके कारण भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, एटक, वामपंथी आन्दोलन, ट्रेड यूनियन आन्दोलन और भारतीय राजनीति पर हुए विपरीत प्रभावों, पार्टी द्वारा आपातकाल को दिए गए समर्थन, उसके पार्टी पर हुए विपरीत प्रभावों, मुम्बई की मिलों में हुई डॉ. दत्ता सामन्त की ऐतिहासिक असफल हड़ताल आदि तमाम घटनाओं का निष्पक्ष विवेचन, समालोचन व आकलन किया है।

आत्मकथा के रूप में लिखी इस पुस्तक में लेखक ने अपने स्वयं के पिछले साठ वर्षों के अनुभवों के आधार पर समय-समय पर होने वाली घटनाओं जिसमें भारत में ट्रेड यूनियन आन्दोलन, कम्युनिस्ट आन्दोलन, राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय घटनाएँ, विशेषकर मुम्बई के साथ-साथ भारत के एक समय के वैभवशाली टेक्सटाइल उद्योग व उसके श्रम आन्दोलन, स्वतंत्रता संग्राम से लेकर आज कर की सामाजिक, राजनैतिक व आर्थिक स्थिति का एक ईमानदार लेखा-जोखा प्रस्तुत किया है।

कॉ. चिटणीस पक्के आशावादी थे। ‘मंजिल’ दूर होते हुए भी उन्हें पक्का विश्वास था कि एक न एक दिन इस देश का संघर्षरत अवाम मंज़िल पर ज़रूर पहुँचेगा। समाज की भलाई के लिए उसे पहुँचना ही होगा।

यह किताब इन सारी घटनाओं का प्रामाणित दस्तावेज़ है जिसे प्रत्येक व्यक्ति को चाहे वह कम्युनिस्ट विचारधारा में विश्वास रखता हो या विरोधी हो, जरूर पढ़ना चाहिए।


लोगों की राय

No reviews for this book