डबल गेम - सुरेन्द्र मोहन पाठक Double Game - Hindi book by - Surendra Mohan Pathak
लोगों की राय

रहस्य-रोमांच >> डबल गेम

डबल गेम

सुरेन्द्र मोहन पाठक

प्रकाशक : राजा पॉकेट बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2012
पृष्ठ :304
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 8841
आईएसबीएन :9789380871547

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

345 पाठक हैं

घात, आघात, प्रतिघात का डबल गेम

Double Game (Surendra Mohan Pathak)

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

ब्लास्ट सच्चाई और इंसाफ का तलबगार है। उन बदनसीब का तरफदार है जो सच्चाई और इंसाफ के तालिब हैं।

गुनाह को आँखों के सामने होता देख कर खामोश रहना गुनहगार की मदद करना है।

घात, आघात, प्रतिघात का डबल गेम


प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book