ड्योढ़ी - गुलजार Dyodhi - Hindi book by - Gulzar
लोगों की राय

सामाजिक >> ड्योढ़ी

ड्योढ़ी

गुलजार

प्रकाशक : वाणी प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2013
पृष्ठ :188
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8865
आईएसबीएन :9789350008447

Like this Hindi book 1 पाठकों को प्रिय

265 पाठक हैं

गुलजार के किस्सों का नया गुलदस्ता

Dyodhi - by Gulzar

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

भूमिका

कहानियों के कई रुख़ होते हैं। ऐसी गोल नहीं होतीं कि हर तरफ़ से एक ही सी नज़र आएँ। सामने, सर उठाये खड़ी पहाड़ी की तरह हैं, जिस पर कई लोग चढ़े हैं और बेशुमार पगडंडियाँ बनाते हुए गुज़रे हैं। अगर आप पहले से बनी पगडंडियों पर नहीं चल रहे हैं, तो कहानी का कोई नया रुख़ देख रहे होंगे। हो सकता है आप किसी चोटी तक पहुँच जाएँ।

कहानियाँ घड़ी नहीं जातीं। वो घटती रहती हैं, वाक़्य होती हैं, आपके चारों तरफ़। कुछ साफ़ नज़र आ जाती हैं। कुछ आँख से ओझल होती हैं। ऊपर की सतह को ज़रा सा छील दो तो बिलबिला कर ऊपर आ जाती हैं।

सब कुछ अपना तजुर्बा तो नहीं होता, लेकिन किसी और के मुशाहिदे और वजूद से भी गुजरो तो वो तजृबा अपना हो जाता है।

बोसीदा दीवार से जैसे अस्तर और चूना गिरता रहता है। अख़बारों से हर रोज़ बोसीदा ख़बरों का पलास्तर गिरता है।

जिसे हम हर रोज़ पढ़ते हैं और लपेट कर रद्दी में रख देते हैं। कभी-कभी उन ख़बरों के किर्दार, सड़े फल के कीड़ों की तरह उन अख़बारों से बाहर आने लगते हैं। कोने खुदरे ढूँढ़ते हैं। कहीं कोई नमी मिल जाए तो पनपने लगते हैं। इस मजमुये में कुछ कहानियाँ उनकी भी हैं।

मैने बेवजह एक कोशिश की है, इन कहानियों को कुछ हिस्सों में तरतीब देने की। वो ना भी करता तो आप खुद अपने-अपने तजृबों के हिसाब से उन्हें तरतीब दे देते।

इनमें कोई भी एक कहानी ऐसी नहीं थी कि मैं उसे मजमुये का मर्कज़ वना कर, मजमुये का नाम दे देता। ड्योढ़ी में बैठा जैसे ‘पिंजारा’ रूई धुनता है। मैं कहानियाँ धुनता रहा। जिसका जी चाहे अपने तकिये, तलाईयाँ भर ले।

कुछ घुनी हुई कहानियाँ ‘सलीम आरिफ़’ के ड्रामों में नज़र आती हैं।

- गुलज़ार


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book