अंतस् - पद्मा राठी Antas - Hindi book by - Padma Rathi
लोगों की राय

लेख-निबंध >> अंतस्

अंतस्

पद्मा राठी

प्रकाशक : रचना साहित्य प्रकाशक प्रकाशित वर्ष : 2012
पृष्ठ :192
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 8876
आईएसबीएन: 000000000000

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

375 पाठक हैं

जीवनोपयोगी लेखों का अनुपम संग्रह....

Ek Break Ke Baad

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

सबके जीवन का प्रमुख रूप से ध्येय होता है अपनापन पाना और देना। इस तरह उसकी कार्य पद्दति भिन्नता के तहत होती है। हमारी पांचो उंगलियाँ एक सरीखी नहीं, सहोदर में भी सरीखापन नहीं होता। अतः अपनी छाप छोड़ने के तरीके भी भिन्नता लिए भांति-भांति से प्रकटहोते हैं। किसी का मनोभाव चित्रांकन में उतर जाताहै तो किसी का अक्षरांकन में।

अस्तु! हृदयगत उद्गारों का खजाना है है इस पुस्तक में। चिन्तनशीलता व अनभवों की व्यापकता के साथ ही सारगर्भित एवं भावगम्य आलेखों का समावेश अत्यन्त सुरुचिपूर्ण है। सरल भाषा शैली का संवरा स्वरूप जिससे हर कोई तादात्म्य जोड़ सके।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book