विष्णु के सात रहस्य - देवदत्त पट्टनायक Vishnu Ke Saat Rahsya - Hindi book by - Devdutt Pattanaik
लोगों की राय

अतिरिक्त >> विष्णु के सात रहस्य

विष्णु के सात रहस्य

देवदत्त पट्टनायक

प्रकाशक : राजपाल एंड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :224
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9065
आईएसबीएन :9789350642405

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

170 पाठक हैं

विष्णु के सात रहस्य...

Vishnu Ke Saat Rahsya - A Hindi Book by Devdutt Pattanaik

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

हिन्दू धर्म में त्रिमूर्ति के तीन देवताओं में से एक विष्णु हैं जिन्हें जग का पालनकर्ता भी कहा जाता है। पौराणिक ग्रंथों में विष्णु को दस अवतारों वाला दशावतार माना गया है और श्रीराम और श्रीकृष्ण उनके सबसे प्रमुख अवतार हैं। विष्णु का निवास दो अलग-अलग जगहों पर है : दुनिया से दूर बैकुंठ में, और दूसरा, क्षीर-सागर में जहां पर यह अनन्त शेष पर विराजमान हैं। भगवद्गीता में विष्णु को विश्वरूप या विराटपुरुष भी माना गया है। इस जग पर अपना पूरा ध्यान केन्दित किए सदा प्रसन्न दिखने वाले विष्णु की चार बांहें हैं जिनमें उन्होंने कमल का फूल, गदा, शंख और सुदर्शन-चक्र पकड़ रखा है। चार हाथों में पकडी अलग-अलग वस्तुओं का क्या रहस्य है ? उनके पाँच अस्त्र भी हैं, उनका क्या महत्व है ? विष्णु को मोक्ष या मुक्ति दिलाने वाला मुकुन्द क्यों कहा जाता है ? जानिए इन सब रहस्यों को-इस रोचक पुस्तक में।

देवदत्त पट्टनायक पौराणिक विषयों के जाने माने विशेषज्ञ हैं। पौराणिक कहानियों, संस्कारों और रीति-रिवाज़ों का हमारी आधुनिक ज़िन्दगी में क्या महत्त्व है, इस विषय पर वह लिखते हैं और जगह-जगह व्याख्यान भी देते हैं। इनकी पन्द्रह से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं और टीवी पर इनका कार्यक्रम भी दिखाया जाता है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book