कुमकुम - गुरुदत्त Kumkum - Hindi book by - Gurudutt
लोगों की राय

अतिरिक्त >> कुमकुम

कुमकुम

गुरुदत्त

प्रकाशक : हिन्दी साहित्य सदन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :212
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 9091
आईएसबीएन :81-88388-84-X

Like this Hindi book 3 पाठकों को प्रिय

364 पाठक हैं

कुमकुम ऐतिहासिक उपन्यास...

Kumkum - A Hindi Book by Gurudutt

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

कुमकुम उसने एक कहारिन की कोख से जन्म लिया था। उसे राजाओं के ज़माने के सुख मिलने लगे थे। एक विद्वान गुरु से उसे गहन गंभीर शिक्षा पाने का अवसर प्राप्त हुआ था। भगवान ने उसे रूप-रंग भी अप्सरा का-सा दिया। नारी से विरक्त बौद्ध महाप्रभु तक उस पर मुग्ध रह गए। लेकिन वह तो इतिहास का कलंक होने का कर्म-फल लेकर बड़ी हुई थी ! क्या वह अपना कलंक धो सकी ?

श्री गुरुदत्त का यह हिन्दी उपन्यास इतिहास की एक लुका-छिपी कहानी पर से पर्दा उठाता है।

इसी उपन्यास में से -

कुमार ! मैं समझता हूँ कि तुम्हारा सम्मतिदाता कोई बहुत ही कम शिक्षित तथा अल्पबुद्धि का स्वामी है। वह यह भी नहीं जानता कि राज्य क्या है और राजा का कर्तव्य क्या है।

राज्य एक ऐसा संस्थान है जो दुष्टों से भले लोगों की रक्षा करता है। जो राजा यह न कर सके वह राज्य का अधिकारी नहीं। उसे सत्ताहीन करना ही धर्म है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book