खलनायक - यी मुन यॉल Khalnayak - Hindi book by - Yi Mun Yol
लोगों की राय

सामाजिक >> खलनायक

खलनायक

यी मुन यॉल

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :96
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 9107
आईएसबीएन :9788126727803

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

14 पाठक हैं

विश्वप्रसिद्ध उत्कृष्ट कोरियन उपन्यास जिस पर आधारित OUR TWISTED HERO नाम से फिल्म बनी है.....

Khalnayak - A Hindi Book by Yi Mun Yol

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

खलनायक इस उपन्यास की कथा साफ तौर से एक रूपक है जो कोरियाई राजनीति से जुड़ी है। यह कोरिया में एक अधिनायकवादी राज्य शैली से अनिश्चित किस्म के प्रजातंत्र में बदलने की गाथा है। इसमें ताकत के भयंकर दुरुपयोग, आम जन के द्वारा उसे स्वीकार कर चुपचाप सहते रहने की मनोदशा, प्रजातंत्र की ओर उन्मुख करने वाली जागृति को तो साक्षात किया ही गया है लेकिन बड़ी बात यह है कि अधिनायक की हार के बावजूद अधिनायकवादी प्रवृत्ति के प्रति सदा सावधान बने रहने की ओर सशक्त संकेत किया गया है। इस उपन्यास के दो स्तर हैं: एक सीधा-सीधा और दूसरा सांकेतिक। सीधे-सीधे अर्थ के अनुसार यह कक्षा के एक ऐसे बिगड़ैल मॉनीटर की कहानी है जो अपनी ताकत और अपने साम्राज्य का झंडा बनाए रखने के लिए कितने ही तरह के हथकंडे अपनाता है। सांकेतिक अर्थ के अनुसार यह मनुष्य के भीतर की एक ऐसी प्रवृत्ति को सामने लाता है जो ताकतवर बनने की भरपूर कोशिश करती है। उपन्यास आत्मकथात्मक शैली में है जिसका ‘विकृत नायक’ अर्थात ‘खलनायक’ ‘ओम सोकदे’ है। माना जाता है कि यह उपन्यास 1980 के ग्वांगजू सामूहिक हत्याकांड से प्रेरित होकर लिखा गया था जिसमें प्रजातंत्र के लिए आंदोलन कर रहे निहत्थे लोगों को दक्षिण कोरियाई सैनिकों (जिन्हें उत्तर कोरिया से लोहा लेने के लिए प्रशिक्षण दिया गया था और जो शायद युद्ध न होने की स्थिति में ऊब चुके थे) ने मौत के घाट उतारा था।

प्रथम पृष्ठ

लोगों की राय

No reviews for this book