भारत के महालक्ष्मी धाम - बनवारी लाल कंछल Bharat Ke Mahalaxmi Dham - Hindi book by - Banwari Lal Kansal
लोगों की राय

संस्कृति >> भारत के महालक्ष्मी धाम

भारत के महालक्ष्मी धाम

बनवारी लाल कंछल

प्रकाशक : मनोज पब्लिकेशन प्रकाशित वर्ष : 2013
पृष्ठ :160
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9183
आईएसबीएन :9788131017630

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

152 पाठक हैं

भारत के महालक्ष्मी धाम...

Bharat Ke Mahalaxmi Dham - A Hindi Book by Banwari Lal Kansal

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

जगपालक श्रीविष्णु की शक्ति हैं-महालक्ष्मी। इन्हें ही वैष्णवी कहते हैं। सामान्य श्रद्धालु इनकी पूजा-अर्चना धन की देवी के रूप में करते हैं। इस प्रकार महालक्ष्मी की प्रसन्नता प्राप्त करने वाला मनुष्य अपने जीवन में धन-संपदा का ही स्वामी नहीं होता, अपितु समस्त ऐश्वर्य और भोग-पदार्थों को भी वह सहज में ही प्राप्त कर लेता है। सिद्ध पुरुषों और योगियों को सिद्धियों की प्राप्ति महालक्ष्मी की कृपा के फलस्वरूप ही होती है। ये अगर रूठ जाएं, तो देवताओं को भी जंगलों की खाक छाननी पड़ती है। लेखक द्वारा इस पुस्तक के पन्नों पर ऐसे महालक्ष्मी धामों को चित्रों के साथ संजोया गया है, जिनके दर्शन मात्र से महालक्ष्मी का कृपा-प्रसाद प्राप्त होता है। और जहां प्रसाद है, वहां सारे सुख सिमटकर आ जाते हैं-दुख का वहां भला क्या काम है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book