तीर्थराज प्रयाग - बनवारी लाल कंछल Teerthhraj-Prayag - Hindi book by - Banwari Lal Kansal
लोगों की राय

संस्कृति >> तीर्थराज प्रयाग

तीर्थराज प्रयाग

बनवारी लाल कंछल

प्रकाशक : मनोज पब्लिकेशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :112
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9184
आईएसबीएन :9788131019061

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

450 पाठक हैं

तीर्थराज प्रयाग...

Teerthhraj-Prayag - A Hindi Book by Banwari Lal Kansal

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

धर्मग्रंथों में प्रयाग को तीर्थों के राजा के रूप में प्रतिष्ठा प्राप्त है। यहां गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम होता है। इस संगमस्थली को त्रिवेणी कहते हैं। धर्मग्रंथों में वर्णन है कि जो सित (श्वेत-गंगा) और असित (श्यामा-यमुना) के संगम में स्नान करता है, उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है। इसी प्रकार-हजारों राजसूय यज्ञों का फल संगम-स्नान करने से प्राप्त होता है, यह उल्लेख भी पुराणों में है। प्रयाग को भास्कर क्षेत्र भी कहते हैं। 52 शक्तिपीठों में से एक है यह। यहां सती की पीठ गिरी थी। ब्रह्मा जी ने यहां 100 अश्वमेध यज्ञ किए थे, इसीलिए इसे प्रयाग कहते हैं। समुद्र-मंथन में निकला अमृत कलश जिन स्थानों पर छलका, वहां महाकुंभ का आयोजन होता है। प्रयाग भी उन स्थानों में से एक है। विस्तृत गंगा-तट होने के कारण प्रयाग का महाकुंभ विश्वप्रसिद्ध है। प्रयाग को ‘अक्षय क्षेत्र’ भी कहा गया है। ब्रह्मा की वेदी और अक्षयवट की प्रधानता होने के कारण भी प्रयाग का महाकुंभ अत्यंत महत्वपूर्ण है। यदि यह कहा जाए कि देश-विदेश की विभिन्न आस्थाओं, धर्मों और संस्कृतियों की संगमस्थली है प्रयाग, तो अतिशयोक्ति न होगी।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book