एक नौकरानी की डायरी - कृष्ण बलदेव वैद Ek Naukrani ki Diary - Hindi book by - Krishan Baldev Vaid
लोगों की राय

नारी विमर्श >> एक नौकरानी की डायरी

एक नौकरानी की डायरी

कृष्ण बलदेव वैद

प्रकाशक : राजपाल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :232
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 922
आईएसबीएन :9788170283744

Like this Hindi book 2 पाठकों को प्रिय

252 पाठक हैं

एक नौकरानी की डायरी...

Ek Naukrani ki Diary

प्रख्यात उपन्यासकार कृष्ण बलदेव वैद का यह ताज़ा उपन्यास एक ऐसे बिलकुल नए विषय को उठाता है जिसकी ओर आज तक लेखकों का ध्यान नहीं गया है। शहरों के घरों में चौका-बरतन और सफाई इत्यादि करनेवाली नौकरानियों की रोजमर्रा की जिन्दगी और उनकी मानसिकता इसका विषय है। एक युवा होती नौकरानी की मानसिक उथल-पुथल को उन्होंने इस उपन्यास में बड़े ही मार्मिक ढंग से चित्रित किया है तथा उसे नियमित रूप से डायरी लिखने का संबल देकर बड़ी कुशलता से उसे अपने आपको और दूसरों को पहचानने-परखने का अवसर दिया है।

प्रवाहपूर्ण भाषा में लिखित यह उपन्यास फ्रायड के उस उपन्यास की याद दिलाता है जो उन्होंने एक युवा होती लड़की की मानसिकता का चित्रण करने के उद्देश्य से डायरी के रूप में लिखा था। यह उपन्यास आरम्भ से ही पाठक की जिज्ञासा को जगाने में सफल है। उपन्यास की नायिका शानो हिन्दी साहित्य का वह चरित्र है जिसे पाठक हमेशा याद रखेंगे।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book