बूँद और समुद्र - अमृतलाल नागर Boond Aur Samudra - Hindi book by - Amritlal Nagar
लोगों की राय

सामाजिक >> बूँद और समुद्र

बूँद और समुद्र

अमृतलाल नागर

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2006
पृष्ठ :429
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9228
आईएसबीएन :8126700408

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

185 पाठक हैं

बूँद और समुद्र...

Boond Aur Samudra - A Hindi Book by Amritlal Nagar

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

बूँद और समुद्र पठनीयता के बल पर हिंदी उपन्यास को ख्याति और प्रतिष्ठा दिलाने वालों में अमृतलाल नागर का नाम अग्रणी है ! कई पीढ़ियों ने उनकी कलम से निकले हृदाग्रही कथा-रस का आस्वाद लिया है ! कथा-साहित्य के कई अविस्मरणीय चरित्रों की सृष्टि का सेहरा भी नागरजी के ही सर बंधा है ! डॉ रामविलास शर्मा ने लिखा, ‘‘हिंदी के कुछ लेखक मार्क्सवाद पर पुस्तकें भी लिख चुके हैं लेकिन उनके पत्र वैसे सजीव नहीं होते, जैसे गाँधीवादी लेखक अमृतलाल नागर के सेठ बंकेमल या बूँद और समुद्र की ताई ! इसका कारन यह है की मार्क्सवाद या गांधीवाद ही किसी लेखक को कलाकार नहीं बना देता ! कथाकार बनाने के लिए मार्मिक अनुभूति आवश्यक है जो जीवन के हर पहलू को देख सके ! सामाजिक जीवन की जानकारी ही न होगी तो दृष्टिकोण बेचारा क्या करेगा ?’’ लाच्क्नो के नागर, मध्यवर्गीय सामाजिक जीवन का अन्तरंग और सजीव चित्रण करनेवाला यह उपन्यास हिंदी उपन्यास-परंपरा में एक कालजयी कृति माना जाता है !

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book